Top

नास्तिकों पर कंगना का बड़ा बयान, उनके बारे में सोचती हैं ऐसा, दी ये सलाह

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत अपनी निडर और बेबाक अंदाज़ के लिए जानी जाती हैं। आए दिन कंगना किसी ना किसी वजह से चर्चा का विषय बनी ही रहती हैं।सोशल मीडिया पर वो काफी एक्टिव दिखती हैं।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 1 Nov 2020 3:56 AM GMT

नास्तिकों पर कंगना का बड़ा बयान, उनके बारे में सोचती हैं ऐसा, दी ये सलाह
X
नास्तिकों पर कंगना रनौत की ऐसी है सोच
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत अपनी निडर और बेबाक अंदाज़ के लिए जानी जाती हैं। आए दिन कंगना किसी ना किसी वजह से चर्चा का विषय बनी ही रहती हैं।सोशल मीडिया पर वो काफी एक्टिव दिखती हैं। हाल ही में कंगना ने ट्विटर के ज़रिए बताया कि सोशल मीडिया पर भी कुछ ऐसे नें होने चाहिए जिससे लोग मर्यादा ना लांघे और अपने धर्म, देवी-देवताओं का सम्मान करें।

देवी-देवताओं के लिए लिखा ट्वीट

अपने ट्वीट पर कंगना ने लिखा- कोई भी अगर रामकृष्ण परमहंस, मां दुर्गा या अल्लाह, क्राइस्ट का कार्टून बनाता है तो वो सजा का हकदार है। अगर वो वर्क प्लेस पर या सोशल मीडिया पर ऐसा करता है तो उसे तुरंत सस्पेंड कर देना चाहिए।अगर वो डिसरिस्पेक्ट करता है तो उसे 6 महीने के लिए जेल भेज दिया जाए।



ये भी पढ़ें…बनारस की बदलती तस्वीर देखने पहुंचे CM योगी, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

नास्तिक होने का हक

एक अन्य पोस्ट करते हुए कंगना ने लिखा- लोगों को नास्तिक होने का हक है। अगर मैंने दूसरे धर्म के भगवान को ना स्वीकारने का विकल्प चुना है तो वो गुनाह नहीं। मुझे ये जाहिर करने की पूरी आजादी है कि मैं क्यों तुम्हारे धर्म से इत्तेफाक नहीं रखती। हां, ये अभिव्यक्ति की आजादी है। मेरी आवाज के साथ जीना सीख लो। तुमने हमेशा मेरा गला दबाने की कोशिश की क्योंकि तुम्हारे पास मेरे सवालों का कोई भी जवाब नहीं है। खुद से पूछ के देखो।



ये भी पढ़ें…किसानों की बल्ले-बल्ले: यूपी सरकार का फैसला, 72 घंटें के अन्दर होगा भुगतान

वल्लभभाई पटेल की जयंती पर किया वाद

वही कंगना ने सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर उन्हें याद करते हुए ट्विटर पर लिखा- देश के पहले प्रधानमंत्री पद के सबसे बड़े उम्मीदवार होने के बाद भी इस शख्स ने गांधी जी के कहने पर अपना पद ठुकरा दिया क्योंकि गांधी जी को ऐसा लगता था कि नेहरू ज्यादा अच्छी इंग्लिश बोलते हैं। नुकसान वल्लभभाई पटेल को नहीं हुआ पर देश को जरूर हुआ। हमें बिना किसी शर्म के वो सब छीन लेना चाहिए जो हमारा है।



ये भी पढ़ें…आकाशदीप से टिमटिमाने लगे काशी के घाट, शहीदों के याद में जलते हैं दीये

ये भी पढ़ें…प्रदेश अध्यक्ष पर देशद्रोह का केस, BJP बोली- हिम्मत है तो गिरफ्तार करे हेमंत सरकार

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

Monika

Monika

Next Story