Film Review: इस फिल्म से हिले अक्षय कुमार, अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते लगभग कई फ़िल्में ऑनलाइन रिलीज़ किया गया। इसी क्रम में अक्षय कुमार और कियारा आडवाणी की फिल्म लक्ष्मी को भी 9 नवंबर को ऑनलाइन प्लेटफार्म पर रिलीज़ किया गया।

film laxmi

film laxmi (file pic )

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते लगभग कई फ़िल्में ऑनलाइन रिलीज़ किया गया। इसी क्रम में अक्षय कुमार और कियारा आडवाणी की फिल्म लक्ष्मी को भी 9 नवंबर को ऑनलाइन प्लेटफार्म पर रिलीज़ किया गया। इस फिल्म में पहली बार अक्षय ट्रांसजेंडर के किरदार में नज़र आ रहे हैं। इस फिल्म में कैमरे का मेन फोकस अक्षय पर ही था। कियारा आडवाणी इस फिल्म में ज़रूर हैं लेकिन बस सुंदर दिखने को। उनसे ज्यादा फुटेज तो फिल्म में आयशा और अश्विनी को मिली है।

आइए जानते है लक्ष्मी की कहानी

आपने फिल्म ‘मुनी’, ‘कंचना’, ‘गंगा’ और ‘काली’ की हिंदी डब तो देखि ही होगी। तो ‘लक्ष्मी’ आपको एक बहुत ही दोयम दर्जे की फिल्म लगेगी। बता दें कि डिजनी प्लस हॉटस्टार ने फिल्म ‘सड़क2’ के बाद अक्षय की लक्ष्मी दूसरी बेहद कमजोर फिल्म साबित हुई है। कैमरा से लेकर संगीत तक सभी चीज़े इतनी अच्छी नहीं लगेगी।

ट्रांसजेंडर लक्ष्मी की कहानी

फिल्म ‘लक्ष्मी’ की कहानी एक ट्रांसजेंडर लक्ष्मी की कहानी है जिसे एक नेता और उसके गुर्गे मार देते हैं। उसको शरण देने वाले और इस शरणदाता के बच्चे की भी हत्या हो जाती है। इनकी आत्मा एक साथ आसिफ (अक्षय कुमार )के शरीर में आ जाती हैं। इस फिल्म में अक्षय ने थोडा ज्यादा ही एक्टिग स्किल्स दिखा दी जिसके कारण आप को भी फिल्म देखते देखते नींद आ सकती है।

यह भी पढ़ें: अमेरिका चुनाव में नाटकीय मोड़: अब होगी वोटिंग में धांधली की जांच, इनको जिम्मेदारी

भूत-प्रेत का साया

आसिफ़ से भूत-प्रेत का साया हटवाने के लिए एक पीर बाबा की मदद ली जाती है तो लक्ष्मी की बैकस्टोरी पता चलती है। एक भूमाफ़िया ने लक्ष्मी की ज़मीन पर अवैध क़ब्ज़ा करने के बाद अपने परिवार के साथ मिलकर लक्ष्मी और उसे बचपन में शरण देने वाले अब्दुल चाचा और उनके मंदबुद्धि बेटे का क़त्ल कर दिया था, जिनसे बदला लेने के लिए लक्ष्मी आसिफ़ के शरीर पर क़ब्ज़ा करती है।

यह भी पढ़ें: Bihar Results: तेजस्वी का नेताओं को सख्त निर्देश, PM मोदी पर कही ये बात

साथी कलाकारों में राजेश शर्मा से लेकर मनु ऋषि चड्ढा, आयशा रजा मिश्रा और अश्विनी कलसेकर सब ओवरएक्टिंग का शिकार हैं। फिल्म में दो गाने हैं जो लगता नहीं किसी को भी पसंद आने वाले हैं। शरद केलकर के कहानी में आने के बाद कुछ रस दिखता भी है लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

यह भी पढ़ें: Bihar Election Results 2020: शुरूआती रूझान में NDA को झटका

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App