Top

'शूटर' पर सरकार का शिकंजा, रिलीज से पहले बैन हुई फिल्म

पालीबुड यानि पंजाबी फिल्म 'शूटर' रिलीज से पहले प्रतिबंधित कर दी गई है। इससे पहले भी पंजाबी फिल्मोंा पर धार्मिक मामलों को लेकर पाबंदी लगती रही है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 11 Feb 2020 3:02 AM GMT

शूटर पर सरकार का शिकंजा, रिलीज से पहले बैन हुई फिल्म
X
'शूटर' पर सरकार का शिकंजा, रिलीज से पहले बैन हुई फिल्म
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दुर्गेश पार्थ सारथी,

अमृतसर: पालीबुड यानि पंजाबी फिल्म 'शूटर' रिलीज से पहले प्रतिबंधित कर दी गई है। इससे पहले भी पंजाबी फिल्मों पर धार्मिक मामलों को लेकर पाबंदी लगती रही है। लेकिन यह पंजाबी भाषा की फिल्मोंह में पहला ऐसा मामला है जो किसी गैंगस्टोर के जीवन पर फिल्मह बनी है।

गैंगस्टर सुक्खार काहलोवाला के जीवन पर बेसड है फिल्म

'शूटर' पर पंजाब सरकार को इस लिए रोक लगाना पड़ा कि यह फिल्म प्रदेश के कुख्यात गैंगस्टर सुक्खार काहलोवाला के जीवन पर आधारित है। 'शूटर' २१ फरवरी को रिलीज होने वाली थी और इसका प्रमोशन पिछले माह १८ जनवरी को हुआ था। यही नहीं फिल्मक के निर्देश और प्रमोटर केवी सिंह ढिल्लोंइ और फिल्मे से जुड़े अन्यस लोगों के खिलाफ मोहाली में एफआईआर भी दर्ज कर ली गई है।

यह भी पढ़ें: भीषण सड़क हादसा: 9 लोगों की हुई दर्दनाक मौत, कई घायल, सीएम गहलोत ने जताया शोक

रोक लगाने के पीछे क्या है सरकार का तर्क

प्रदेश में फिल्मआ के प्रदर्शन और गानों पर रोक लगाने के पीछे सरकार का तर्क है कि वह ऐसे किसी भी फिल्म‍ या गाने को चलाने की मंजुरी नहीं देगी जो अपराध व हिंसा को बढ़ावा देती हो। बता दें कि फिल्म के निर्माता केवी ढिल्लों ने जब 2019 में 'सुक्खाक काहलवां' पर फिल्म बनाने की घोषणा की थी तब उन्हों ने उन्हों ने विश्वाशस दिलाया था कि वह फिल्मं में ऐसा कुछ नहीं दिखाएंगे जिससे हिंसा को बढ़ावा मिलता हो। फिल्म पर पाबंदी को लेकर डीजीपी दिनकर गुप्ताज, एडीजीपी इंटेलिलेंस ने मुख्यवमंत्री कैप्टलन अमरिंदर सिंह के साथ बैठक की।

2015 में मारा जा चुका है गैगस्टर सुक्खां

इन अधिकारियों ने सरकार को बताया कि फिल्मु बहुत ज्याुदा हिंसक है। इसका युवाओं पर बुरा असर पड़ सकता है। प्रदेश की कानून व्यकवस्था् भी बिगड़ सकती है। बता दें कि गैंगस्ट र सुक्खास कहलोंवाला की जालंधर कोर्ट में पेशी के बाद पटियाला के नाभा जेल लेजाते समय जनवरी २०१५ में गैंगस्ट।र विक्की् गौंडर और उसके साथियों फगवाड़ा के पास पुलिस हिरासत में अंधाधुंध फायरिंग कर उसकी हत्याब कर दी थी। हलांकि विक्कीग गौंडर भी पुलिस एनकाउन्टुर में मारा जा चुका है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली विधानसभा चुनाव: 672 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला आज

Shreya

Shreya

Next Story