Top

ऋतिक का अफेयर: कंगना की आई याद, किया ऐसा तो भड़की ऐक्ट्रेस

बॉलीवुड एक्टर ऋतिक रोशन का 2017 में साइबर सेल में एक शिकायत दर्ज कराई थी। या मामला अब साइबर सेल से क्राइम ब्रांच इंटेलिजेंस यूनिट को ट्रांसफर किया गया है।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 15 Dec 2020 3:16 AM GMT

ऋतिक का अफेयर: कंगना की आई याद, किया ऐसा तो भड़की ऐक्ट्रेस
X
ऋतिक का पुराना केस हुआ ट्रांसफर, फिर भड़कीं कंगना रनौत
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बॉलीवुड एक्टर ऋतिक रोशन का 2017 में साइबर सेल में एक शिकायत दर्ज कराई थी। या मामला अब साइबर सेल से क्राइम ब्रांच इंटेलिजेंस यूनिट को ट्रांसफर किया गया है। साल 2013 से 2014 के बीच ऋतिक को करीब 100 ईमेल मिले थे। यह ईमेल बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत की मेल आईडी से भेजे गए थे।

ये था मामला

जिसके लेकर ऋतिक ने 2017 में साइबर सेल में शिकायर दर्ज कराई थी। उस वक़्त कंगना ने अपनी तरफ से साफ़ किया था की उन्होंने ऋतिक को कोई इमेल नहीं किए। उनकी ईमेल आईडी हैक हो गई थी।

कंगना का ट्वीट

ऋतिक के केस ट्रांसफर को लेकर अब कंगना रनौत ने एक्टर पर निशाना साधते हुए एक ट्वीट किया है। एक्ट्रेस ने ट्वीट में लिखा -उसकी कहानी फिर से शुरू हो गई। हमारे ब्रेक अप और उसके डिवोर्स के कितने साल हो चुके हैं लेकिन वह आगे बढ़ने से इनकार कर रहा है। किसी भी महिला को डेट करने से मना करता है। बस जैसी ही मैं अपनी पर्सनल लाइफ में कुछ उम्मीद पाने के लिए साहस जुटाती हूं तो वह फिर से वही नाटक शुरू कर देता है। ऋतिक रोशन कब तक रोएगा एक छोटे से अफेयर के लिए?

अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज

आपको बता दें, कि 2016 में ऋतिक रोशन ने अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया था। तब भारतीय दंड संहिता की तमाम धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया था। इसमें आईटी एक्ट और चीटिंग संबंधी धारा भी शामिल थी।

ऋतिक के वकील ने लिखा पत्र

इस मामले की जांच में कोई प्रोग्रेस न होने पर वरिष्ठ अधिवक्ता महेश जेठमलानी के कार्यालय ने हाल ही में 9 दिसंबर को पुलिस आयुक्त को पत्र लिखा था। जिसमे लिखा था कि मजिस्ट्रेट कोर्ट ने मेरे क्लाइंट के लैपटॉप और फोन लौटाने के लिए निर्देश दिए थे जिसे असली दोषी तक पहुंचने में जांच के लिए मुहैया कराया गया था। लेकिन क्लाइंट को लैपटॉप और फोन वैसे नहीं मिले जैसे उनसे लिए गए थे।

अधिवक्ता गुंजन मंगला की ओर से सिग्नेचर किए गए पत्र में कहा गया है कि हमारे क्लाइंट ने सभी ईमेल, पासपोर्ट आदि की सभी प्रासंगिक दस्तावेजों की प्रतियां सौंप दीं थीं। पत्र में कहा गया है कि ऋतिक ने पुलिस अधिकारियों से मुलाकात की और उन्हें अपने और अपने परिवार को होने वाले आघात के बारे में बताया था। हालांकि, आज तक जांच में कोई प्रगति नहीं हुई है और मामला अब भी लंबित है।

Birthday Special: राणा दग्गुबाती के ऐसे खतरे में पड़ गई थी जान, ये थी बड़ी वजह

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Monika

Monika

Next Story