Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

सुशांत केस: चाभीवाले ने खोला 14 जून की काली रात का राज

सुशांत सिंह राजपुर की मौत अभी भी एक राज़ बनी हुई है। हर कोई जानना चाहता है कि आखिर 14 जून को क्या हुआ था। उनके बीच से एक ऐसा एक्टर अचानक गायब हो गया था

Monika

MonikaBy Monika

Published on 22 Aug 2020 5:23 AM GMT

सुशांत केस: चाभीवाले ने खोला 14 जून की काली रात का राज
X
Sushant Singh Rajpur's death still remains a mystery. Everyone wants to know what happened on 14 June. One such actor suddenly disappeared from their midst.
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सुशांत सिंह राजपुर की मौत अभी भी एक राज़ बनी हुई है। हर कोई जानना चाहता है कि आखिर 14 जून को क्या हुआ था। उनके बीच से एक ऐसा एक्टर अचानक गायब हो गया था जो ना केवल एक बेहतरीन एक्टर , एक अच्छे इंसान थे बल्कि एक्टर बनने से पहले इंजीनियरिंग से उन्होंने मैकेनिल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की।

ssr

चाभीवाले ने खोला राज़

सुप्रीम कोर्ट फैसले के बाद सीबीआई इस केस को देख रही है। हाल ही में सीबीआई जांच के बीच घटना वाले दिन सुशांत के कमरे का दरवाजे खोलने वाले उस चाभीवाले ने पूछताछ में कई बड़े राज खोले हैं।

ये भी पढ़ें- दिल्ली में हंगामा: मंदिर से मिली आपत्तिजनक मूर्तियां, पूरा इलाका सील

मीडिया रिपोर्ट की माने तो, मोहम्मद रफी शेख नाम के इस चाबीवाले ने सुशांत के दरवाज़े का ताला खोला था। रफी शेख ने बताया कि 14 जून को सिद्धार्थ पिठानी के फोन करने पर वह सुशांत के फ्लैट पर पहुंचा था। हालांकि उसने बताया कि उसे इस बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि फ्लैट सुशांत सिंह राजपूत का है। रफी ने बताया कि जब वह सुशांत के कमरे के पास पहुंचा तो उसने देखा कि दरवाजे पर कम्प्यूटराइज लॉक लगा है।

सुशांत सिंह

चार लोग थे मौजूद

रफी शेख ने बताया कि उस वक्त वहां पर चार लोग मौजूद थे। उसने बताया कि ताला तोड़ने के बाद उसे तुरंत वहां से जाने के लिए कह दिया गया था। ​तब तक उसे घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। रफी ने बताया कि जैसे ही लॉक टूटा और मैंने दरवाजा खोलने की कोशिश की तो वहां मौजूद लोगों ने मुझे कुछ देखने ही नहीं दिया। दरवाजा खुलते ही वहां मौजूद लोग मुझे बाहर ले आए और वहां से जाने को कह दिया।रफी शेख ने यह भी बताया कि उस दिन चारों में से कोई भी घबराया हुआ नहीं लग रहा था। हर कोई बस ये चाहता था कि मैं दरवाजा खोल दूं।रफी ने बताया कि उन्होंने कहा ​था कि पैसे की कोई टेंशन नहीं है बस दरवाजा खुलना चाहिए. चाहे तो दरवाज़ा तोड़ दो।

ये भी पढ़ें- कोरोना टेस्टिंग और इलाज पर अखिलेश का वार, बोले- यूपी का बहुत बुरा हाल

धीरे-धीरे इस केस से पर्दा हट रहा है। सभी की उम्मीद बनकर आई सीबीआई ने इस केस पर तेज़ी से काम करना शुरू कर दिया हैं।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Monika

Monika

Next Story