बड़ा बदलाव: बैंक ने ग्राहकों को लॉकडाउन में दी राहत साथ झटका भी

देश मेंं कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन की स्थिति में देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने होम या कार लोन की ब्याज दर कम कर दी हैं। लेकिन आपकी बचत पर कुछ तिकड़म किया है। बैंक ने खुदरा और एकमुश्त जमा राशि मतलब की एफडी पर ब्याज दर कम कर दी है।

बड़ा बदलाव: बैंक ने ग्राहकों को लॉकडाउन में दी राहत साथ झटका भी

नई दिल्ली : देश मेंं कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन की स्थिति में देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने होम या कार लोन की ब्याज दर कम कर दी हैं। लेकिन आपकी बचत पर कुछ तिकड़म किया है। बैंक ने खुदरा और एकमुश्त जमा राशि मतलब की एफडी पर ब्याज दर कम कर दी है। मतलब ये हुआ कि यदि आपने एसबीआई में फिक्स्ड डिपॉजिट कर रखा है तो आपको पहले के मुकाबले अब कम ब्याज मिलेगा। देश में पारंपरिक, सुरक्षित और निश्चित ब्याज इनकम के लिए बड़े पैमाने पर एफडी में निवेश किया जाता है।

ये भी पढ़ें… कोरोना पर C-40 देशों की चर्चाः CM केजरीवाल ने कही ऐसी बात, हो रही विश्व में तारीफ़

इतनी हुई कटौती

एसबीआई ने 2 करोड़ रुपये से कम की रिटेल एफडी पर ब्याज दरें 0.50 फीसदी तक घटा दी हैं। और नई ब्याज दरें 28 मार्च से लागू होंगी।

इसके साथ ही ये एक महीने के अंदर दूसरी बार है जब एसबीआई ने एफडी पर ब्याज दर कम की है। इससे पहले 10 मार्च को भी एसबीआई की फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दर में कटौती दर्ज की गई थी।

ये भी पढ़े…कोरोना संकट से आर्थिक मंदी की चपेट में पूरी दुनिया, उबरने में लगेगा काफी वक्त

क्या हैं ताजा ब्याज दरें-

7-45 दिन – 3.5%

46-179 दिन – 4.5%

180-210 दिन- 5%

211 दिन-1 वर्ष से कम – 5%

1 वर्ष से 10 वर्ष तक की सभी अवधि की एफडी ब्याज दर 5.7 फीसदी पर आ गई है।

पिछले कुछ सालों में लगभग हर बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में कटौती की है। एफडी पर ब्याज दर कटौती का सबसे अधिक नुकसान सीनियर सिटीजन का होता है। बता दें कि ये वर्ग एफडी की ब्याज आय पर निर्भर रहता है।

ये भी पढ़े…पश्चिम बंगाल: डॉक्टर कोरोना से संक्रमित, फर्जी पोस्ट डालने के मामले में महिला गिरफ्तार