खतरनाक सॉफ्टवेयर: जासूस बनकर करता हैक, 1400 से ज्यादा का डाटा लीक

व्हाट्सएप आजकल दुनिया का लगभग हर शख्स इस्तेमाल करता है। इसी व्हाट्सएप से भारत के साथ दुनिया के करीब 1400 पत्रकारों और कार्यकर्ताओं का डाटा लीक हुआ तथा जासूसी भी हुई। इस घटना की जानकारी व्हाट्सएप ने खुद अमेरिकी फेडरल कोर्ट में दी।

नई दिल्ली : व्हाट्सएप आजकल दुनिया का लगभग हर शख्स इस्तेमाल करता है। इसी व्हाट्सएप से भारत के साथ दुनिया के करीब 1400 पत्रकारों और कार्यकर्ताओं का डाटा लीक हुआ तथा जासूसी भी हुई। इस घटना की जानकारी व्हाट्सएप ने खुद अमेरिकी फेडरल कोर्ट में दी। व्हाट्सएप ने इस घटना का आरोप इजरायल की एक एनएसओ नाम की कंपनी पर पिगासस सॉफ्टवेयर के जरिए जासूसी करने का लगाया है।

यह भी देखें… बेसहारा इमरान: सिर्फ 2 दिन का बचा समय, हुआ तरसे को तिनके का सहारा जैसा हाल

इस घटना पर व्हाट्सएप ने अपने एक बयान में कहा है कि व्हाट्सएप एप के कॉलिंग फीचर में एक कमी के कारण यह जासूसी हुई है। अब सवाल यह है कि पिगासस सॉफ्टवेयर है क्या, इसके लाइसेंस की कीमत क्या है, ये क्या-क्या कर सकता है, इसकी मदद से कौन-कौन सी डिवाइस हैक हो सकती है?

चलिए आपको बताते है इसकी विस्तृत जानकारी

ये है पिगासस सॉफ्टवेयर की कीमत

सूत्रों से मिली रिपोर्ट के अनुसार, पिगासस सॉफ्टवेयर की कीमत 7-8 मिलियन डॉलर यानी लगभग 56 करोड़, 56 लाख, 40 हजार रुपये है। इस कीमत में पिगागस सॉफ्टवेयर का एक साल के लिए लाइसेंस मिलता है।

यह भी देखें… लिबास क्या जाने व्यक्ति की धर्म और जात, पढ़े पूरा मामला 

इस एक लाइसेंस पर आप एक साल में 500 फोन को मॉनिटर कर सकते हैं। पिगासस के जरिए एक बार में 50 मोबाइल फोन पर सेकण्डों में नजर रखी जा सकती है। पिगासस सॉफ्टवेयर यूजर की इजाजत के बिना उसके फोन को ऑफ/ऑन के अलावा फॉर्मेट भी मार सकता है।

व्हाट्सएप हैकिंग मामले में हैकर्स ने लोगों को निशाने पर लेने के लिए अलग-अलग नंबर्स से अकाउंट्स बनाए थे जो कि ब्राजील, इजरायल, स्वीडन और इंडोनेशिया जैसे देशों में एक्टिव थे। व्हाट्सएप को हैक करने के लिए पिगासस ने व्हाट्सएप के सर्वर का इस्तेमाल किया।

यह भी देखें… सरकार ने जारी किया नया मानचित्र, जम्मू कश्मीर और लद्दाख केंद्रशासित प्रदेश