लगा ज़ोर का झटका! आईडिया-वोडाफोन के बुरे दिन, भारत में पहली बार हुआ ऐसा

भारत में ऐसा पहली बार हुआ है जब मोबाइल फोन वोडाफोन आइडिया के चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर में 50,921 करोड़ रुपए का रिकॉर्ड घाटा हुआ है।

नई दिल्ली: भारत में ऐसा पहली बार हुआ है जब मोबाइल फोन वोडाफोन आइडिया के चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर में 50,921 करोड़ रुपए का रिकॉर्ड घाटा हुआ है। ऐसा अभी तक किसी भी भारतीय कंपनी को हुआ रिकॉर्ड सबसे ज्यादा तिमाही घाटा हुआ है। इस मोबाइल कंपनी को यह रिकॉर्ड घाटा एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू यानी AGR को लेकर आए उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद हुआ है। वहीं दूसरी तरफ वोडाफोन आइडिया की आय में 42 फीसदी बढ़त दर्ज की गई है और यह बढ़कर 11,146.4 करोड़ रुपये हो गई। आज ही एयरटेल ने भी अपनी दूसरी तिमाही के रिजल्ट जारी किया है। इसमें 23 हजार करोड़ रुपए का घाटा दर्ज किया है।

ये भी देखें:ट्रेन का सफर महंगा! अब आपको जेब करनी होगी ढीली, रेलवे ने उठाया ये कदम

करीब 26 हजार करोड़ रुपए प्रावधान के चलते हुआ घाटा

उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद वोडाफोन आइडिया पर सरकार की अनुमानित 44,150 करोड़ रुपए की देनदारी हो गई है। 2019-20 की दूसरी तिमाही में इस बकाए को चुकाने के लिए कंपनी ने 25,680 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है, जिससे कंपनी को घाटा हुआ है।

फैसले के खिलाफ डाली जाएगी याचिका

वोडाफोन-आइडिया की ओर से कहा गया है कि वह AGR मामले में सुप्रीम कोर्ट आदेश पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगी। ये बात भी सामने आई है कि कंपनी का चल पाना इस बात पर डिपेंड करेगा कि सरकार से कितनी राहत मिलती है।

ये भी देखें:CJI गोगोई का SC में आज आखिरी दिन, इन 5 फैसलों के लिए किया जाएगा याद

एयरटेल को भी रिकॉर्ड घाटा

भारती एयरटेल को चालू वित्‍त वर्ष की दूसरी तिमाही में अब तक का सबसे बड़ा तिमाही घाटा हुआ है। टेलिकॉम कंपनी एयरटेल को सितंबर तिमाही में 23045 करोड़ रुपए का बड़ा झटका लगा है। कंपनी ने रिपोर्ट में जानकारी दी है कि एडजेस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) के लिए कंपनी ने सितंबर तिमाही में 28450 करोड़ के प्रोविजंस किए हैं, जिससे उसका घाटा सितंबर तिमाही में बढ़कर 23045 करोड़ हो गया। वहीं कंपनी को अपने तिमाही रिजल्ट्स की घोषणा अक्टूबर में करनी थी, लेकिन AGR समस्या की वजह से तब इसे टाल दिया गया था। कंपनी को एक साल पहले की समान तिमाही में 118.80 करोड़ का फायदा हुआ था।