Oh No! YouTube अपना ये धांसू फीचर अगले महीने कर देगा बंद

अगर आप यूट्यूब यूजर है तो ये खबर आपके लिए पढ़ना जरूरी है। दरअसल दुनिया भर में वीडियो शेयरिंग के लिए मशहूर यूट्यूब ने अपने मैसेज फीचर बंद करने का निर्णय लिया है।

लखनऊ: अगर आप यूट्यूब यूजर है तो ये खबर आपके लिए पढ़ना जरूरी है। दरअसल दुनिया भर में वीडियो शेयरिंग के लिए मशहूर यूट्यूब ने अपने मैसेज फीचर बंद करने का निर्णय लिया है।

18 सितंबर से यूजर्स मैसेज फीचर यूज नहीं कर पाएंगे।  इसकी जानकारी गूगल ने यूट्यूब के सपोर्ट पेज पर एक मैसेज पोस्ट करके दिया है।

इस सन्देश में गूगल ने बताया है कि कंपनी लगातार अपनी प्राथमिकताओं का पुनर्मूल्यांकन करती रहती है और इसी तरह से अब यूट्यूब के नैटिव डायरेक्ट मैसेज फीचर को डिस कंटिन्यू किया जा रहा है।

अब कंपनी पब्लिक कनवर्सेशन पर फोकस करेगी।हाल ही में गूगल ने अपने कुछ दूसरे ऐप्स भी बंद किए हैं। ट्रिप प्लानिंग ऐप गूगल ट्रिप्स को भी बंद कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें…पोर्न स्टार का बुरा हाल: सालो से पड़ी है सुरंग में, होती सबसे ज्यादा सर्च

इसके साथ ही गूगल एलो काफी पहले ही बंद कर दिया गया।  सोशल मीडिया के बारे में आपको पता ही होगा गूगल प्लस बंद कर दिया गया है। यूट्यूब से ही जुड़ी एक दूसरी रिपोर्ट की बात करें तो कंपनी यूट्यूब किड्स से टार्गेटेड विज्ञापन खत्म कर सकती है।

फेडरल ट्रेड कमीशन फिलहाल ये जांच कर रही है कि क्या यूट्यूब ने चिंल्ड्रेन ऑनलाइन प्राइवेसी ऐक्ट का उल्लंघन किया है या नहीं। एजेंसी के साथ सेटलमेंट की बात भी चल रही है। हालांकि अब तक टर्म्स नहीं बताए गए हैं।

बताते चले कि 2017 में  यूट्यूब पर प्राइवेट मैसेज का फीचर आया था। इसके तहत यूजर्स एक दूसरे को प्राइवेटली मैसेज कर सकते हैं। लेकिन अब गूगल ने इसे हटाने का फैसला किया है।

ये भी पढ़ें…अविवाहित लड़कों नहीं पहनना चाहिए काले कपड़े, जानिए जीवन से जुड़ी और भी बातें

यूट्यूब लाएगा ये नया फीचर

गूगल के स्वामित्व वाली यूट्यूब नए ‘एक्सप्लोर’ फीचर का परीक्षण कर रही है, ताकि यूजर्स को उनके मोबाइल पर ब्राउस किए गए सर्च हिस्ट्री के आधार पर प्रासंगिक चैनल और वीडियो ढूंढ़ने में मदद कर सके।

यूट्यूब के उत्पाद प्रबंधन के निदेशक टॉम लियूंग ने कंपनी के ‘क्रिएटर इनसाइडर’ चैनल पर कहा, ‘एक्सप्लोर’ को आपको आपकी व्यूइंग गतिविधियों के आधार पर विभिन्न प्रकार के विषयों, वीडियोज और चैनल्स के मुहैया कराने के लिए डिजाइन किया गया है, जहां तक संभवत: आप नहीं पहुंच पाते होंगे।’

प्रायोगिक ‘एक्सप्लोर’ टैब एक फीसदी आईफोन यूजर्स के यूट्यूब एप के नीचे होगा। लियूंग ने हालांकि यह नहीं बताया कि यह एंड्रायड यूजर्स के लिए कब तक उपलब्ध होगा।

फेसबुक के स्वामित्व वाली फोटो-मैसेजिंग एप इंस्टाग्राम में भी ‘एक्सप्लोर’ टैब है, जो यूजर्स को उनकी सर्च हिस्ट्री के आधार पर उनके पसंद के विषयों वाले कंटेट मुहैया कराती है।

ये भी पढ़ें…आप भी जान लें! आखिर बड़े से बहुत बड़े कैसे बने फरार चिदंबरम