Top

Corona से ठीक होने के बाद भी बीमार हो रहे लोग, नए- नए लक्षण आ रहे सामने

Corona:पोस्ट कोविड सिंड्रोम यानी संक्रमण मुक्त होने के बाद भी तकलीफ बहुत से लोगों में देखी जा रही है। वैसे तो ये सभी उम्र के लोगों में हो रहा है लेकिन बुजुर्गों और जिन लोगों को कोरोना होने पर आईसीयू में भर्ती होना पड़ा उनमें ये ज्यादा देखने को मिलता है।

Neel Mani Lal

Neel Mani LalWritten By Neel Mani LalShivaniPublished By Shivani

Published on 22 Jun 2021 4:26 AM GMT

Corona से ठीक होने के बाद भी बीमार हो रहे लोग, नए- नए लक्षण आ रहे सामने
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Corona Ke Lakshan: कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के बाद ठीक हो चुके बहुत से लोग तरह तरह की समस्याओं और तकलीफों से ग्रसित हो रहे हैं। पोस्ट कोविड सिंड्रोम (Post Covid Sindrom) यानी संक्रमण मुक्त होने के बाद भी तकलीफ बहुत से लोगों में देखी जा रही है। वैसे तो ये सभी उम्र के लोगों में हो रहा है लेकिन बुजुर्गों और जिन लोगों को कोरोना होने पर आईसीयू (ICU) में भर्ती होना पड़ा उनमें ये ज्यादा देखने को मिलता है।

क्यों हो रहा है पोस्ट कोविड सिंड्रोम

कोरोना संक्रमण में वायरस शरीर के सेल्स में प्रवेश कर जाता है और फेफड़े से लेकर हृदय और ब्रेन तक पहुंच जाता है। ये वायरस शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के एक्टिवेट होने से कुछ समय बाद खत्म हो जाता है और जांच करने और कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट आ जाती है। लेकिन शरीर में घुसने और सेल्स में रिप्लीकेट होने के दौरान ये वायरस किसी भी अंग या कई अंगों को स्थाई रूप से नुकसान पहुंचा सकता है। कई स्टडी में पाया गया है कि मरीज के हृदय, किडनी, ब्रेन या फेफड़े को किसी न किसी रूप में इस वायरस ने क्षतिग्रस्त कर देता है। ऐसा क्यों होता है और इसे कैसे रोका जाए, ये अभी तक पता नहीं चल पाया है। रिसर्च में तो ये भी पता चला है कि कोरोना वायरस ब्रेन में घुस कर वहां के टिश्यू खत्म कर सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना के वेरियंट अलग अलग तरह की पोस्ट कोविड छाप छोड़ते हैं।

हर मरीज में अलग लक्षण

जिस तरह कोरोना संक्रमण होने पर हर मरीज में अलग अलग तरह के लक्षण और समस्याएं पैदा होती हैं ठीक उसी तरह कोरोना से ठीक होने पर अलग अलग के प्रभाव सामने आते हैं। आमतौर पर पोस्ट कोविड सिंड्रोम में सांस लेने में दिक्कत, काम में मन न लगना, कमजोरी, थकान, मांसपेशियों में दर्द, अनिद्रा, खांसी, बुखार जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

पोस्ट कोविड सिंड्रोम में आपको कई लक्षण देखने को मिल सकते हैं। इसमें से कमजोरी, थकान, भूख न लगना और चक्कर आना बेहद सामान्य से लक्षण हैं। इसमें आपको घर पर ही आराम करने की जरूरत होती है लेकिन अगर कोई गंभीर लक्षण नजर आए तो डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। जैसे कि तनाव, चिंता और डिप्रेशन, दिल की धड़कन तेज होना, नाड़ी की दर तेज होना, रक्तचाप का बढ़ना, सांस लेने में तकलीफ होना, ब्लड शुगर बढ़ जाना, ये सब लक्षण होने पर डॉक्टर को दिखा कर इलाज कराना चाहिए।
पोस्ट कोविड में मानसिक समस्याएं सबसे ज्यादा देखी गईं हैं। डिप्रेशन, एंग्जायटी इत्यादि समस्याओं से बहुत लोग ग्रसित हो जाते हैं। इसका भी कारण पता नहीं चल पाया है लेकिन एक थ्योरी है कि कोरोना की दहशत की वजह से ऐसा मुमकिन है।

संक्रमित होने पर क्या करें (Corona Positive Hone Par Kya Kren)

पोस्ट कोविड सिंड्रोम में अगर गंभीर समस्या नहीं है तो ज्यादा प्रोटीन वाली डाइट लेना चाहिए और ज्यादा-से-ज्यादा पानी पीना चाहिए। प्रोटीन के लिए आप अपने खाने में दाल, अंडा, दही और अन्य चीजें शामिल कर सकते हैं। इसके साथ ही खूब आराम करें, अच्छी नींद लें और वॉक की शुरूआत के साथ हल्की एक्सरसाइज करें। ब्रीथिंग एक्सरसाइज भी बहुत जरूरी है क्योंकि कोरोना वायरस सबसे ज्यादा फेफड़ों को ही प्रभावित करता है।

डाक्टरों का कहना है कि सबसे बड़ी बात पोस्ट कोविड फेज में भी डायबिटीज पर कंट्रोल करना जरूरी होता है। अगर कोरोना संक्रमण के दौरान स्टेरॉयड लिए हैं तो जिन लोगों को पहले डायबिटीज नहीं थी, उन्हें भी बाद में शुगर की समस्या होने की आशंका हो सकती है। ऐसे में कोविड के बाद एक बार ब्लड शुगर टेस्ट जरूर कराएं।


Shivani

Shivani

Next Story