विटामिन डी की अधिक खुराक से हो सकती हैं, किडनी खराब

दावा तो ये भी किया जाता है, कि विटामिन डी हमारी बढ़ती उम्र के आने वाले बदलावों से भी हमारी रक्षा करता है।और, ये कैंसर से भी बचाता है। लिवर कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, प्रॉस्टेट कैंसर पर हुई रिसर्च बताती हैं,कि विटामिन डी कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है।

Published by Vidushi Mishra Published: April 9, 2019 | 12:23 pm
Modified: April 9, 2019 | 12:37 pm

नई दिल्ली: विटामिन डी को चमत्कारी विटामिन के रूप में भी जाना जाता है। माना जाता है,कि ये विटामिन हमें रोगों से बचाता है। थकान, मांसपेशियों की कमज़ोरी, हड्डियों में होने वाली तकलीफ़ और डिप्रेशन से बचाने में भी विटामिन डी मददगार होता है।

यह भी पढ़े:लखनऊ: “सैर कर दुनिया की गाफिल, जिंदगानी फिर कहाँ? ज़िंदगी गर कुछ रही तो, नौजवानी फिर कहा?”

दावा तो ये भी किया जाता है, कि विटामिन डी हमारी बढ़ती उम्र के आने वाले बदलावों से भी हमारी रक्षा करता है।और, ये कैंसर से भी बचाता है। लिवर कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, प्रॉस्टेट कैंसर पर हुई रिसर्च बताती हैं,कि विटामिन डी कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है।

इसमें कोई मतभेद नहीं हैं,कि विटामिन डी हमारी हड्डियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। ये हड्डियों में कैल्शियम और फॉस्फेट की मात्रा को नियमित रखता है। यही वजह है, कि जिन लोगों के शरीर में विटामिन डी की कमी होती है, उन्हें विटामिन डी की गोलियां खाने की सलाह अक्सर दी जाती है।

सूरज की अल्ट्रावायोलेट-बी किरणें जब हमारे शरीर पर पड़ती हैं, तो हमारा शरीर अंदर उपस्थित कोलेस्ट्रॉल से विटामिन डी बना लेता है। यह कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फेट आदि पोषक तत्वों के आंतों के अवशोषण के लिए आवश्यक है,और कमी से रिकेट्स, ऑस्टियोपोरोसिस आदि जैसे कई रोग हो सकते हैं।

यह भी पढ़े:राहुल गांधी बोले- बीजेपी के घोषणा पत्र में दूरदर्शिता का अभाव

घातक भी हो सकती हैं, विटामिन डी की अधिकता

हालांकि, एक नए मामले के अध्ययन में बहुत अधिक विटामिन के सेवन के हानिकारक प्रभावों को बताया गया है।

केस स्टडी को ‘कैनेडियन मेडिकल एसोसिएशन जर्नल’ (CMAJ) में प्रकाशित किया गया, और बताया गया कि आपके आहार में अत्यधिक विटामिन डी को ग्रहण करने से शरीर में संभावित खतरे उत्पन्न होने की संभावना रहती हैं।

अध्ययन में 54 वर्षीय पुरुष के मामले का उल्लेख किया गया था, जिसे विटामिन डी की उच्च खुराक की खपत के बाद, विटामिन डी की उच्च खुराक की खपत के बाद, एक संदिग्ध तीव्र गुर्दे की चोट के लिए तत्काल नेफ्रोलॉजी क्लिनिक में ले जाया गया।

केस स्टडी के अनुसार, वह आदमी दक्षिण-पूर्व एशिया की यात्रा से लौटा, जहाँ उसने ज्यादातर समय धूप सेंकने में बिताया था। आदमी के शरीर में क्रिएटिनिन का उच्च स्तर दिखाया गया था, जो किडनी की खराबी या खराबी आने का लक्षण था।

किडनी विशेषज्ञ और परीक्षण के लिए जाने के बाद, यह पाया गया कि वजह विटामिन डी की उच्च खुराक थी, जो कि आदमी को एक नेरोपैथ द्वारा निर्धारित किया गया था। जिसकी वजह से उसकी किडनी में खराबी आयी थी।

आदमी प्रति दिन विटामिन डी की आठ बूंदों का सेवन कर रहा था। आदमी विटामिन डी की आठ और 12 बूंदों के बीच उपभोग कर रहा था, जो प्रति दिन विटामिन के 8000-12000 आईयू की कुल थी।

केस स्टडी का शीर्षक था, विटामिन डी का उपयोग गुर्दे की खराबी का एक कारण है।
एक 54 वर्षीय व्यक्ति में गुर्दे की विफलता के लिए विटामिन डी की बूंदों का उपयोग”। केस स्टडी के अनुसार, कि विटामिन डी की विषाक्तता दुर्लभ थी, लेकिन चिकित्सकों को बहुत अधिक विटामिन डी की खपत के खतरों के बारे में पता होना चाहिए, ताकि रक्त में कैल्शियम बिल्डअप के उच्च स्तर या कैल्शियम के स्तर के खतरों से बचा जा सके।

यह भी पढ़े:ससुराल से निकाली गई महिला उस जगह से मुकदमा दर्ज करा सकती है जहां उसने शरण ली है: कोर्ट

इस शोध से तात्पर्य यह हैं, कि किसी चीज की कमी और अधिकता दोनों ही नुकसानदायक हैं। इसलिए नियमित मात्रा में ही वस्तुओं का सेवन करें।