×

Nonalcoholic Fatty Liver Disease: रात 1 से 4 के बीच जागना लीवर जोख़िम का बड़ा संकेत

Nonalcoholic Fatty Liver Disease: आप शुरुआती चरणों में स्थिति की पहचान करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं, हालांकि, नींद के दौरान यह खतरनाक संकेत संकेत दे सकता है कि आपका लीवर खतरे में है।

Preeti Mishra
Written By Preeti Mishra
Published on: 9 Dec 2022 7:21 AM GMT
Non-alcoholic fatty liver disease
X

Non-alcoholic fatty liver disease (Image credit : social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Nonalcoholic Fatty Liver Disease: गैर-मादक वसायुक्त यकृत रोग यकृत के अंदर वसायुक्त कोशिकाओं की उपस्थिति को संदर्भित करता है। यह परेशानी तब बन सकती है जब इन वसायुक्त कोशिकाओं की उपस्थिति यकृत के समुचित कार्य को सीमित कर देती है, जिससे शरीर में विषाक्त अपशिष्ट का निर्माण होता है। आप शुरुआती चरणों में स्थिति की पहचान करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं, हालांकि, नींद के दौरान यह खतरनाक संकेत संकेत दे सकता है कि आपका लीवर खतरे में है।

नींद की गड़बड़ी और जिगर का जख्म

जर्नल ऑफ नेचर एंड साइंस ऑफ स्लीप के अनुसार, नींद की गड़बड़ी लिवर के निशान की एक प्रसिद्ध विशेषता है।डॉ. के अनुसार रात में 1 से 4 बजे के बीच जागने का सबसे आम कारण लीवर की समस्या है।

नींद और लिवर कैसे जुड़े हैं ?

हमारे शरीर की सर्केडियन रिदम हमारी मास्टर आंतरिक घड़ी है, जो बाहरी घड़ी - सूर्योदय और सूर्यास्त - के अनुसार काम करती है - यह सुनिश्चित करने के लिए कि हमारे सभी अंग और आंतरिक जैविक प्रणालियां सामंजस्यपूर्ण, प्रभावी और कुशलता से काम करें।

डॉ. बताते हैं कि सुबह 1 से 3 बजे के बीच लिवर हमारे शरीर को साफ करने और डिटॉक्सिफाई करने के लिए सबसे कठिन काम करता है। गौरतलब है कि लीवर की सफाई का समय (सुबह 1 और 4 बजे), शरीर विषहरण के लिए अधिक ऊर्जा आवंटित करने की कोशिश करेगा और आपके तंत्रिका तंत्र को जगाने के लिए ट्रिगर करेगा।

नींद की गड़बड़ी के प्रकार

जर्नल ऑफ थोरैसिक डिजीज के अनुसार, पुरानी यकृत रोग वाले लगभग 60 से 80 प्रतिशत रोगियों में नींद की गड़बड़ी प्रभावित होती है। यह अनिद्रा, कम नींद की क्षमता, दिन के समय नींद आना और रेस्टलेस लेग सिंड्रोम के रूप में हो सकता है।

गैर-अल्कोहल फैटी लिवर रोग के कारण

स्थिति आमतौर पर निम्नलिखित जोखिम कारकों से जुड़ी होती है:

-अधिक वजन या मोटापा होना

- प्रीडायबिटीज या टाइप 2 डायबिटीज होना

-रक्त में वसा का उच्च स्तर, विशेष रूप से ट्राइग्लिसराइड्स का होना

सुबह जल्दी उठने के अन्य कारण

बुजुर्ग वयस्क भी उम्र के साथ अपने शरीर की सर्केडियन रिदम में बदलाव के कारण सुबह-सुबह जागने का अनुभव कर सकते हैं। स्लीप फाउंडेशन के मुताबिक, इस आबादी में हर रात तीन से चार बार जागने की प्रवृत्ति होती है। निशामेह, चिंता और अन्य स्थितियां भी उम्र से संबंधित नींद में बदलाव ला सकती हैं।

शोधकर्ताओं ने यह भी पाया है कि असंगत सोने का समय खराब समग्र जीवन शैली के व्यवहार से जुड़ा हुआ है, जैसे कम गुणवत्ता वाला आहार और अत्यधिक शराब का सेवन।

Preeti Mishra

Preeti Mishra

Next Story