×

मेदांता सुपरस्पेशिलिटी हॉस्पिटल में बांटे गए प्रीविलेज कार्ड, OPD व IPD में सिनियर सिटीजंस को मिलेगा स्पेशल डिस्काउंट

इस कार्ड के माध्यम से मेदांता में आए सेकेंड इनिंग के सिनियर सिटीजन मैंबर को बेहतर इलाज के लिए ओपीडी एवं IPD अच्छे डिसकाउंट दिए जायेंगे।

Shashwat Mishra
Updated on: 29 Jun 2022 2:24 PM GMT
मेदांता सुपरस्पेशिलिटी हॉस्पिटल में बांटे गए प्रीविलेज कार्ड
X

मेदांता सुपरस्पेशिलिटी हॉस्पिटल में बांटे गए प्रीविलेज कार्ड (Image Credit: Newstrack)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मेदांता सुपरस्पेशिलिटी हॉस्पिटल की ओर से बुधवार को सिनियर सिटीजन क्लब सेकेंड इनिंग के मैंमर्स को प्रीविलेज कार्ड से ओपीडी में स्पेशल डिस्काउंट दिया गया। सेकेंड इनिंग में सिनियर सिटीजन के 900 मैंबर है, जिसमें लगभग 900 परिवार शामिल हैं। इसी क्रम में बुधवार शाम को न्यूरोलॉजी के डायरेक्टर डॉ ठक्कर ने स्ट्रोक प्रीवेंशन एंड कंट्रोल पर इंटरेक्टिव सेशन लिया।

OPD व IPD में मिलेगा डिस्काउंट

मेदांता सुपरस्पेशिलिटी हॉस्पिटल में सिनियर सिटीजन क्लब सेकेंड इनिंग के मैंमर्स को प्रीविलेज कार्ड दिया गया। इस कार्ड के माध्यम से मेदांता में आए सेकेंड इनिंग के सिनियर सिटीजन मैंबर को बेहतर इलाज के लिए ओपीडी एवं IPD अच्छे डिसकाउंट दिए जायेंगे। इसके आलावा मेदांता की तरफ से आग्रह किया गया की हर इक मेंबर अपने मोबाइल में इमरजेंसी नंबर 1098 सेव करें और किसी भी आपातकालीन स्थिति में इस पर संपर्क करें। इस मौके पर मौजूद सीनियर सिटीजन क्लब के मेम्बरों के साथ आये उनके प्रेजिडेंट अतुल दुबे ने मेदांता अस्पताल की इस पहल पर प्रीविलेज कार्ड के लिए मेदांता के मैनेजमेंट का आभार व्यक्त किया।

ब्रेन स्ट्रोक के मरीज़ की जान 16-24 घण्टे में बच सकती

इसी दौरान अस्पताल परिसर में स्ट्रोक विषय पर आयोजित हुए इंटरेक्टिव सेशन के दौरान मेदांता लखनऊ के न्यूरोलॉजी के निदेशक डॉ ए.के. ठक्कर ने स्ट्रोक प्रीवेंशन एंड कंट्रोल पर के विषय पर चर्चा की। डॉ ठक्कर ने बताया कि ब्रेन स्ट्रोक से पीड़ित मरीज की जान स्ट्रोक के 16-24 घंटे के दौरान तक बचाई जा सकती है। स्ट्रोक में 16-24 घंटे में यदि मरीज अस्पताल में पहुंचते हैं, तो थ्रांबेक्टॉमी से इलाज कर जान बचाई जा सकती है। साथ ही, उन्होंने सीनियर सिटीजन के सवालों के जवाब भी दिए। मेदांता अस्पताल हमेशा सीनियर सिटीजन के बेहतर इलाज के लिए तत्पर है।

Rakesh Mishra

Rakesh Mishra

Next Story