×

Smoking and lung cancer: धूम्रपान करने वाले लोगों को उनके DNA के कारण नहीं होता है फेफड़े का कैंसर

Smoking and lung cancer: कुछ धूम्रपान करने वालों को उनके डीएनए के कारण फेफड़ों का कैंसर नहीं हो सकता है।

Preeti Mishra
Published on 13 May 2022 9:52 AM GMT
Smoking and lung cancer
X

धूम्रपान करने वालों को उनके होता है फेफड़े का कैंसर (Social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Smoking and lung cancer correlation: आमतौर पर फेफड़े का कैंसर के लिए धूम्रपान को ही मुख्य कारण माना जाता रहा है। लेकिन एक रिसर्च में इसको लेकर बहुत ही चौकाने वाले खुलासे हुए हैं। रिपोर्ट में यह बताया गया है कि कुछ धूम्रपान करने वालों को उनके डीएनए के कारण फेफड़ों का कैंसर नहीं हो सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार इन लोगों में ऐसे जीन होते हैं जो डीएनए में उत्परिवर्तन, या परिवर्तन को सीमित करने में मदद करते हैं, जो कोशिकाओं को घातक बना कर और उन्हें ट्यूमर में विकसित कर सकता है।

वैज्ञानिकों को लंबे समय से संदेह है कि धूम्रपान स्वस्थ कोशिकाओं में डीएनए उत्परिवर्तन को ट्रिगर करके फेफड़ों के कैंसर का कारण बनता है। लेकिन उनके लिए स्वस्थ कोशिकाओं में उत्परिवर्तन की पहचान करना कठिन था ,जो भविष्य में कैंसर के जोखिम की भविष्यवाणी करने में मदद कर सकते हैं।

फेफड़ों में कैंसर बनने की अधिक संभावना

बता दें कि रिसर्च टीम ने 19 धूम्रपान करने वालों और 14 गैर-धूम्रपान करने वालों के फेफड़ों की कोशिकाओं की जांच करने के लिए एकल-कोशिका पूरे जीनोम अनुक्रमण नामक एक प्रक्रिया का उपयोग किया, जो कि उनके पूर्व-किशोर से लेकर उनके मध्य -80 के दशक तक थे। कोशिकाएं उन रोगियों से आई हैं जिनके कैंसर से संबंधित नैदानिक ​​​​परीक्षण के दौरान उनके फेफड़ों से ऊतक के नमूने एकत्र किए गए थे। वैज्ञानिकों ने नेचर जेनेटिक्स में अपने निष्कर्षों की सूचना दी।

शोधकर्ताओं ने विशेष रूप से फेफड़ों को अस्तर करने वाली कोशिकाओं को देखा क्योंकि ये कोशिकाएं वर्षों तक जीवित रह सकती हैं और समय के साथ उत्परिवर्तन का निर्माण करती हैं जो उम्र बढ़ने और धूम्रपान से भी जुड़ी होती हैं। विशेषज्ञों के अनुसार "फेफड़ों के सभी प्रकार के सेल में, ये कैंसर बनने की सबसे अधिक संभावना है।"

10 से 20 प्रतिशत आजीवन धूम्रपान करने वालों को होता है

विश्लेषण में पाया गया कि धूम्रपान करने वालों में अधिक जीन उत्परिवर्तन थे जो धूम्रपान न करने वालों की तुलना में फेफड़ों के कैंसर का कारण बन सकते हैं।

"यह प्रयोगात्मक रूप से पुष्टि करता है कि धूम्रपान म्यूटेशन की आवृत्ति को बढ़ाकर फेफड़ों के कैंसर के खतरे को बढ़ाता है, जैसा कि पहले अनुमान लगाया गया था। बता दें कि "यह संभवतः एक कारण है कि इतने कम गैर-धूम्रपान करने वालों को फेफड़ों का कैंसर होता है, जबकि 10 से 20 प्रतिशत आजीवन धूम्रपान करने वालों को होता है।"

गौरतलब है कि रिसर्च के दरमियान धूम्रपान करने वालों में, लोगों ने अधिकतम 116 तथाकथित पैक-ईयर धूम्रपान किया था। एक पैक-वर्ष एक वर्ष के लिए एक दिन में एक पैक धूम्रपान करने के बराबर है। धूम्रपान करने वालों के फेफड़ों की कोशिकाओं में पाए गए उत्परिवर्तन की संख्या में उनके द्वारा धूम्रपान किए गए पैक-वर्षों की संख्या के सीधे अनुपात में वृद्धि हुई।

लेकिन 23 पैक-वर्षों के बाद, धूम्रपान करने वालों में फेफड़ों की कोशिकाएं अधिक उत्परिवर्तन जोड़ने के लिए प्रकट नहीं हुईं, शोधकर्ताओं ने रिपोर्ट की, यह सुझाव देते हुए कहा कि कुछ लोगों के जीन उन्हें उत्परिवर्तन से लड़ने की अधिक संभावना बना सकते हैं।

धूम्रपान करने वालों को फेफड़ों के कैंसर का खतरा

शोधकर्ताओं के अनुसार सबसे भारी धूम्रपान करने वालों के पास उच्चतम उत्परिवर्तन बोझ नहीं था। इतना ही नहीं उनके अनुसार डेटा बताता है कि ये व्यक्ति अपने भारी धूम्रपान के बावजूद इतने लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं क्योंकि वे आगे उत्परिवर्तन संचय को दबाने में कामयाब रहे।"

हालांकि यह संभव है कि ये निष्कर्ष एक दिन डॉक्टरों को फेफड़ों के कैंसर की जांच करने और बीमारी का इलाज करने के बेहतर तरीकों के साथ आने में मदद कर सकते हैं, यह अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है। कई और प्रयोगशाला परीक्षणों और बड़े अध्ययनों की आवश्यकता होगी ताकि यह पता लगाया जा सके कि धूम्रपान करने वालों को फेफड़ों के कैंसर का खतरा अधिक हो सकता है और क्यों।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story