घास में सही से टहलें, नहीं तो हो सकता है स्क्रब टाइफस

स्क्रब टाइफस, जिसे बुश टाइफस के नाम से भी जाना जाता है, यह एक बीमारी है जो ओरिएंटिया ट्सट्सुगामुशी नामक बैक्टीरिया से होती है। संक्रमित चिग्गेर्स (लार्वा माइट) के काटने से लोगों में स्क्रब टाइफस फैलता है।

स्क्रब टाइफस, जिसे बुश टाइफस के नाम से भी जाना जाता है, यह एक बीमारी है जो ओरिएंटिया ट्सट्सुगामुशी नामक बैक्टीरिया से होती है। संक्रमित चीगर्स (लार्वा माइट) के काटने से लोगों में स्क्रब टाइफस फैलता है।

यह भी पढ़ें,,,, गंगा दशहरा पर काशी के घाटों पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, भक्तों ने लगाई डुबकी

स्क्रब टाइफस के सबसे आम लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, शरीर में दर्द और कभी-कभी दाने होना शामिल हैं। स्क्रब टाइफस के ज्यादातर मामले दक्षिणपूर्व एशिया, इंडोनेशिया, चीन, जापान, भारत और उत्तरी ऑस्ट्रेलिया के ग्रामीण इलाकों में होते हैं। स्क्रब टाइफस पाए जाने वाले क्षेत्रों में रहने वाले या यात्रा करने वाला कोई भी व्यक्ति संक्रमित हो सकता है

यह भी पढ़ें,,,, अमेठी में पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के घर पर CBI का छापा, परिवार वालों से कड़ी पूछताछ

स्क्रब टाइफस के लक्षण चीगर के काटने पर 10 दिन के अन्दर दिखने लगते है.स्क्रब टाइफस के लक्षणों में शामिल है-

1.बुखार और ठंड लगना

2.सरदर्द

3.शरीर में दर्द और मांसपेशियों में दर्द

4.चीगर काटने के स्थान पर एक गहरा, खुरदरा क्षेत्र

5.मानसिक परिवर्तन, भ्रम से लेकर कोमा तक

6.बढ़े हुए लिम्फ नोड्स

7.लाल चकत्ते

गंभीर बीमारी वाले लोगों के अंगो का सही से काम ना करना और लम्बे समय तक इलाज न करवाने से जानलेवा साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ें,,,, अम्बेडकरनगर: टांडा के ग्राम चिंतौरा में भीषण आग, दमकल की गाड़ियां आग बुझाने में जुटी

सावधानियां और बचाव:

स्क्रब टाइफस के लक्षण कई अन्य बीमारियों के लक्षणों के जैसे ही हैं। अगर आप किसी ऐसी जगह समय बिताते है जहाँ स्क्रब टाइफस होने की सम्भावना ज्यादा है तो अपने सेहत पर ज्यादा ध्यान दें। यदि आपने हाल ही में यात्रा की है, तो डॉक्टर्स से अपना चेकअप जरूर कराएँ और बताएं कि आपने कब और कहाँ यात्रा की है। आपका चेकअप करने वाला डॉक्टर स्क्रब टाइफस या अन्य बीमारियों को देखने के लिए रक्त परीक्षण का आदेश दे सकता है। परिक्षण के बाद रिपोर्ट आने में समय लग सकता है।तो यह मुमकिन है कि डॉक्टर रिपोर्ट्स आने के पहले ही आप का इलाज शुरू कर दें।

इलाज:

स्क्रब टाइफस टीबायोटिक डॉक्सीसाइक्लिन के साथ इलाज किया जाना चाहिए। डॉक्सीसाइक्लिन का उपयोग किसी भी उम्र के व्यक्तियों में किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स सबसे प्रभावी तब होता है जब यह लक्षण पता चलने के तुरंत बाद दिया जाय।  जिन लोगों को डॉक्सीसाइक्लिन के साथ जल्दी इलाज किया जाता है वे आमतौर पर जल्दी ठीक हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें,,,, बर्थडे स्पेशल: अपनी उम्र से बड़े हीरो के साथ काम करना करती है पसंद, ये अभिनेत्री

निवारण:

स्क्रब टाइफस से बचाव के लिए कोई टीका उपलब्ध नहीं है। संक्रमित चीगर्स के संपर्क से बचकर स्क्रब टाइफस होने के अपने जोखिम को कम करें। जब स्क्रब टाइफस उन क्षेत्रों की यात्रा करते हैं, तो बहुत सारी वनस्पतियों और घास वाले क्षेत्रों से बचें, जहां चीगर्स मिल सकते हैं।