जमात के नाम पर मुस्लिमों का उत्पीड़न: पूर्व नौकरशाहों ने मुख्यमंत्रियों को लिखी चिट्ठी

चिट्ठी में लिखा गया कि तबलीगी जमात का मामला होने के बाद से मुस्लिमो को टारगेट किया जा रहा है। उनके खिलाफ देश में माहौल बनाया जा रहा है, ऐसे में वे भेदभाव का शिकार हो रहे हैं।

लखनऊ: भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की एक वजह तबलीगी जमात को बताया जा रहा है, जिसे लेकर सोशल मीडिया पर जमातियों की जमकर आलोचना हो रही है। इसी मामले में अब देश भर के 101 पूर्व नौकरशाहों ने अपने अपने राज्यों के मुख्यमंत्रियों और राजयपालों को चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने मुसलमानों के उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

101 नौकरशाहों ने मुख्यमंत्रियों और राजयपालों को लिखी चिट्ठी

दरअसल, इस चिट्ठी में लिखा गया कि तबलीगी जमात का मामला होने के बाद से मुस्लिमो को टारगेट किया जा रहा है। उनके खिलाफ देश में माहौल बनाया जा रहा है, ऐसे में वे भेदभाव का शिकार हो रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि इस मुद्दे के जरिये मुस्लिमों का उत्पीड़न हो रहा है।

जमात के मुद्दे पर मुस्लिमों के उत्पीड़न का लगाया आरोप

हालाँकि चिट्ठी में तबलीगी जमात की आलोचना भी की गयी है। लेकिन ये भी तर्क दिया गया कि सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन केवल जमात ने नहीं किया। चिट्ठी में लिखा गया कि ये अकेली ऐसी राजनीतिक या धार्मिक बैठक नहीं थी, लेकिन मीडिया एक वर्ग विशेष को टारगेट कर कोरोना को सांप्रदायिक रंग दे रही है।

ये भी पढ़ेंः यूपी पुलिस पर हमला: नमाजियों ने बिगाड़ा जिले का माहौल, मौलवी समेत 23 गिरफ्तार

कहा- कोरोना को साम्प्रदायिक रूप देने की कोशिश

इस चिट्ठी के सामने आने के बाद हंगामा मच गया। बता दें कि आज से ही रमजान के पाक महीने की शुरुआत भी हुई है। ऐसे में नौकरशाहों के मुस्लिमों पर उत्पीड़न के आरोप वाली ये चिट्ठी लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गयी है।

ये भी पढ़ेंः मिनटों में खत्म होगा कोरोना! वैक्सीन-इलाज की जरुरत नहीं, मिला नया तरीका

सोनिया गांधी भी उठा चुकी मुद्दाः

गौरतलब है कि इसके पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी कोरोना के मुद्दे को साम्प्रदायिक रूप देने का भाजपा पर आरोप लगाया था। उन्होंने सीईसी की बैठक में कहा था कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जिस समय हमे एकजुट होने की जरूरत है, उस समय बीजेपी सांप्रदायिक भेदभाव और नफरत का वायरस फैला रही।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App