सावन स्पेशल शिवलिंग की मान्यताएं:12 ज्योतिर्लिंग की 12 कहानियां, कुछ सुनी, कुछ अनसुनी

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महादेव शिवशंकर स्वयं प्रगट हुए है। उनकी लिंग रुप में भी पूजा होती है और भगवान शिवलिंग रुप में 12 स्थानों पर विराजमान है। जानते है सावन में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग के बारे में…

जयपुर : सावन का पवित्र मास चल रहा है। इसमें अगर देवो के देव महादेव जो कि अजन्मे है, अनंत है।  उनके बारे में न जाने, न सुने तो सब बेकार है। इस एक माह तक शिव कथा और उनकी महिमा का गुणगान  न करें तो जीवन का कोई मूल्य नहीं है।पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महादेव शिवशंकर स्वयं प्रगट हुए है। उनकी लिंग रुप में भी पूजा होती है और भगवान शिवलिंग रुप में 12 स्थानों पर विराजमान है। जानते है सावन में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग के बारे में…

सावन के पहले सोमवार को मनकामेश्वर मंदिर में आरती करती महंत दिव्यागिरी

*सोमनाथ ज्योतिर्लिंग 12 शिवलिंगों में पहला ज्योतिर्लिंग है। यह मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र  में है। शिवपुराण के अनुसार दक्षप्रजापति के श्राप से बचने के लिए, सोमदेव (चंद्रदेव) ने भगवान शिव की आराधना की। व शिव प्रसन्न हुए और सोम(चंद्र) के श्राप का निवारण किया। सोम के कष्ट को दूर करने वाले प्रभु शिव की यहां पर स्वयं सोमदेव ने स्थापना की थी ! इसी कारण इस तीर्थ का नाम ”सोमनाथ” पड़ा। विदेशी आक्रमणों के कारण यह मंदिर 17 बार नष्ट हो चुका है। और हर बार यह बिगड़ता और बनता रहा है।

*मल्लिकार्जुन आन्ध्र प्रदेश में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल नाम के पर्वत पर स्थित ज्योतिर्लिंग है। इस मंदिर का महत्व भगवान शिव के कैलाश पर्वत के समान है। कहते है एक बार कार्तिक किसी बात को लेकर अपने पिता भगवान शिव से नाराज हो कर दक्षिण की दिशा में श्रीशैल पर्वत पर एकांतवास में चले गये थे, लेकिन अपने माता-पिता की सेवा और भक्ति का मोह कार्तिक त्याग नहीं पाए और उन्होंने शिवलिंग बनाकर उनकी उपासना शुरू कर दी। भगवान् शिव मां पार्वती के साथ वहां पर विराजमान है ! शिव (अर्जुन) और पार्वती (मल्लिका )एक साथ विराजमान हुए इसीलिए इस ज्योतिर्लिंग का नाम मल्लिकार्जुन पड़ा। धार्मिक शास्त्र इसके धार्मिक और पौराणिक महत्व की व्याख्या करते हैं।  इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने मात्र से ही व्यक्ति को सारे पापों से मुक्ति मिलती है।

यहां साक्षात निकल रहे ‘भगवान शिव’, खुद देखें अपनी आंखों से

*ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग से संबंधित कई कहानी हैं। पुराणों के अनुसार विन्ध्य पर्वत ने भगवान शिव की पार्थिव लिंग रूप में पूजन व तपस्या की थी अतएव भगवान शिव ने प्रकट होकर उन्हें आशीर्वाद दिया एवं प्रणव लिंग के रूप में विराजित हुए। देवताओं की प्रार्थना के पश्चात शिवलिंग २ भागो में विभक्त हो गया एवं एक भाग ओम्कारेश्वर एवं दूसरा भाग ममलेश्वर कहलाया, जिसमे ज्योतिलिंग ओंकारेश्वर में एवं पार्थिव लिंग अमरेश्वर/मम्लेश्वर में स्थित है
अन्य कथानुसार इक्ष्वाकु वंश के राजा मान्धाता ने नर्मदा नदी के किनारे कठोर तपस्या की तब भगवान शिव ने उन्हें आशीर्वाद दिया ।यहां प्रकट हुए,तभी से भगवान ओंकारेश्वर में रूप में विराजमान हैं। इसमें 68 तीर्थ हैं। यहाँ 33 करोड़ देवता परिवार सहित निवास करते हैं। नर्मदा क्षेत्र में ओंकारेश्वर सर्वश्रेष्ठ तीर्थ है।

*महाकालेश्‍वर यह ज्‍योतिर्लिंग मध्‍यप्रदेश के उज्जैन में है जो भी इंसान इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करता है, उसे मोक्ष मिलता है। महाभारत में, महाकवि कालिदास ने मेघदूत में उज्जयिनी की चर्चा करते हुए इस मंदिर की प्रशंसा की है। आकाश में तारक लिंग, पाताल में हाटकेश्वर लिंग और पृथ्वी पर महाकालेश्वर से बढ़कर कोई ज्योतिर्लिंग नहीं है। इसलिए महाकालेश्वर को पृथ्वी का अधिपति कहते हैं। मान्यता अनुसार दक्षिण दिशा के स्वामी स्वयं भगवान यमराज हैं। तभी जो भी व्‍यक्‍ति इस मंदिर में आ कर भगवान शिव की सच्‍चे मन से प्राथर्ना करता है, उसे मृत्‍यु के बाद मिलने वाली यातनाओं से मुक्‍ति मिलती हैं।

महेंद्र सिंह धोनी को आर्मी चीफ ने आर्मी संग ट्रेनिंग की दी इजाजत
*उत्तराखंड में हिमालय पर्वत की गोद में केदारनाथ मंदिर 12 ज्योतिर्लिंग में एक, चार धाम और पंच केदार में से भी एक है। केदारनाथ मंदिर 3593 फीट की ऊंचाई पर बना हुआ एक भव्य एवं विशाल मंदिर है। इतनी ऊंचाई पर इस मंदिर को कैसे बनाया गया, इसकी कल्पना आज भी नहीं की जा सकती है।यह मंदिर अप्रैल से नवंबर माह के मध्‍य ही दर्शन के लिए खुलता है। पत्‍थरों से बने कत्यूरी शैली से बने इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण पाण्डव वंश के जनमेजय ने कराया था। यहाँ स्थित स्वयम्भू शिवलिंग अति प्राचीन है।
कथानुसार  इस ज्योतिर्लिंग  की मान्यता है कि महाभारत के युद्ध में विजयी होने पर पांडव भ्रातृहत्या के पाप से मुक्ति पाना चाहते थे। इसके लिए वे भगवान शंकर का आशीर्वाद पाना चाहते थे, लेकिन वे उन लोगों से रुष्ट थे। भगवान शंकर के दर्शन के लिए पांडव काशी गए, पर वे उन्हें वहां नहीं मिले। वे लोग उन्हें खोजते हुए हिमालय तक आ पहुंचे। भगवान शंकर पांडवों को दर्शन नहीं देना चाहते थे, इसलिए वे वहां से अंतध्र्यान हो कर केदार में जा बसे। दूसरी ओर, पांडव भी लगन के पक्के थे, वे उनका पीछा करते-करते केदार पहुंच ही गए।भगवान शंकर ने तब तक बैल का रूप धारण कर लिया और वे अन्य पशुओं में जा मिले। पांडवों को संदेह हो गया था। अत: भीम ने अपना विशाल रूप धारण कर दो पहाड़ों पर पैर फैला दिया। अन्य सब गाय-बैल तो निकल गए, पर शंकर जी रूपी बैल पैर के नीचे से जाने को तैयार नहीं हुए। भीम बलपूर्वक इस बैल पर झपटे, लेकिन बैल भूमि में अंतध्र्यान होने लगा। तब भीम ने बैल की त्रिकोणात्मक पीठ का भाग पकड़ लिया। भगवान शंकर पांडवों की भक्ति, दृढ संकल्प देख कर प्रसन्न हो गए। उन्होंने तत्काल दर्शन देकर पांडवों को पाप मुक्त कर दिया। उसी समय से भगवान शंकर बैल की पीठ की आकृति-पिंड के रूप में श्री केदारनाथ में पूजे जाते हैं।

*भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पूणे में सह्याद्रि नामक पर्वत पर है। भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग को मोटेश्वर महादेव के नाम से जानते है। इसकी मान्यता है कि  कुम्भकर्ण का बेटा भीम भगवान् ब्रह्मा के वरदान से अत्याधिक बलवान हो गया था। बल के मद में अंधा होकर उसने शिवभक्तों पर अत्याचार किया। इंद्र देव को भी उसने युद्ध में हरा दिया था। शिवभक्त राजा सुदाक्षण को उसने जेल में डाल दिया था। सुदाक्षण ने जेल में शिवलिंग बनाकर उसकी पूजा-अर्चना शुरू कर दी  इसकी जानकारी मिलते ही एक दिन भीम वहां आ गया और उसने शिवलिंग को अपने पैरों से रौंध डाला क्रोधित होकर भगवान् शिव वहां प्रगट हुए और राक्षसराज भीम का वध कर दिया। तभी से इस ज्योतिर्लिंग का नाम भीमाशंकर पड़ गया। ऐसी मान्यता भी है कि जो कोई इस मंदिर के प्रतिदिन सुबह सूर्य निकलने के बाद दर्शन करता है, उसके सात जन्मों के पाप दूर हो जाते हैं तथा उसके लिए स्वर्ग के मार्ग खुल जाते हैं।

*काशी विश्वनाथ यह उत्तर प्रदेश के काशी नामक स्थान पर स्थित है। सभी धर्म स्थलों में काशी का अत्यधिक महत्व है। इसकी मान्यता है, कि प्रलय आने पर भी यह स्थान बना रहेगा। इसकी रक्षा के लिए भगवान शिव इस स्थान को अपने त्रिशूल पर धारण कर लेंगे और प्रलय के टल जाने पर काशी को उसके स्थान पर पुन: रख देंगे।

क्या बोलती है हाथों की चूड़ियां, सावन में इसके खनकने से बढ़ जाता है साजन का प्यार

*त्र्यंबकेश्वर यह ज्योतिर्लिंग गोदावरी नदी के किनारे महाराष्ट्र के नासिक मे है। इस ज्योतिर्लिंग के सबसे अधिक निकट ब्रह्मागिरि पर्वत है। इसी पर्वत से गोदावरी नदी निकलती है। भगवान शिव का एक नाम त्र्यंबकेश्वर भी है। कहा जाता है कि भगवान शिव को गौतम ऋषि व गोदावरी की प्रार्थनानुसार भगवान शिव इस स्थान में वास करने की कृपा की और त्र्यम्बकेश्वर नाम से विख्यात हुए। त्र्यम्बकेश्वर की विशेषता है कि यहां पर तीनों ( ब्रह्मा-विष्णु और शिव ) देव निवास करते है जबकि अन्य ज्योतिर्लिंगों में सिर्फ महादेव। मान्यता अनुसार भगवान शिव को गौतम ऋषि और गोदावरी नदी के आग्रह पर यहां ज्योतिर्लिंग रूप में रहना पड़ा।

 

*वैद्यनाथ श्री वैद्यनाथ शिवलिंग का समस्त ज्योतिर्लिंगों में खास स्थान है। भगवान वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का मन्दिर जिस स्थान पर  है, उसे वैद्यनाथ धाम कहा जाता है।शिव पुराण में वर्णित कथानुसार एक बार राक्षस राज रावण ने अति कठोर तपस्या करके भगवान् शिव को प्रसन्न कर लिया ! जब भगवान् शिव ने रावण से वरदान मांगने के लिए कहा- तब रावण ने भगवान् शिव से लंका चलकर वही निवास करने का वरदान माँगा ! भगवान् शिव ने वरदान देते हुए रावण के सामने एक शर्त रख दी कि शिवलिंग के रूप में मैं तुम्हारे साथ लंका चलूँगा लेकिन अगर तुमने शिवलिंग को धरातल पे रख दिया तो तुम मुझको पुनः उठा नहीं पाओगे ! रावण शिवलिंग को उठाकर लंका की ओर चल पड़ा ! रास्ते में रावण को लघुशंका लग गयी ! रावण ब्राह्मण वेश में आये भगवान् विष्णु की लीला को समझ नहीं पाया और उसने ब्राह्मण (विष्णु जी) के हाथ में शिवलिंग देकर लघुशंका से निवृत्त होने चला गया ! भगवान् विष्णु ने शिवलिंग को पृथ्वी पर रख दिया ! जब रावण वापस लौटा और उसने शिवलिंग को जमीन पर रखा पाया तो रावण ने बहुत प्रयास किया लेकिन वो शिवलिंग को नहीं उठा पाया ! वैद्य नामक भील ने शिवलिंग की पूजा अर्चना की इसीलिए इस तीर्थ का नाम वैद्यनाथ पड़ायह स्थान झारखण्ड प्रान्त, पूर्व में बिहार प्रान्त के संथाल परगना के दुमका नामक जनपद में पड़ता है।

फ़िरोज़ाबाद: शिकोहाबाद के माधवगंज होली पब्लिक स्कूल के होस्टल से 3 बच्चे गायब

* नागेश्वर यह ज्योतिर्लिंग गुजरात के बाहर नागेश्वर में स्थित है। भगवान शिव नागों के देवता है और नागेश्वर का पूर्ण अर्थ नागों का ईश्वर है। भगवान शिव का एक अन्य नाम नागेश्वर भी है। द्वारका पुरी से भी नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी 17 मील की है। इस ज्योतिर्लिंग की महिमा में कहा गया है कि जो व्यक्ति पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ यहां दर्शनों के लिए आता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। कथानुसार दारुका नाम की एक राक्षसी थी उसने देवी पार्वती की कठिन तपस्या कर उनसे वरदान प्राप्त किया था। दारुका अपने पति दारुक के साथ उस वन पर राज करती थी दोनों बड़े ही क्रूर और निर्दयी थे दोनों मिल कर वहां की जनता पर तरह तरह के अत्याचार करते थे। वहां की जनता उनके अत्याचारों से त्रस्त थी और उनके अत्याचारों से मुक्ति पाने के उद्देश्य से महर्षि और्व की शरण में पहुंचे। महर्षि और्व ने उनकी याचना सुनी और उसके बाद उन्होंने राक्षसों को श्राप दिया की जब कोई राक्षस किसी धार्मिक कार्य में व्यवधान पहुचायेगा तो उसकी मृत्यु हो जायेगी। एक बार वैश्यों का एक समूह गलती से उस वन के समीप पहुँच गया और दारुक ने उन पर आक्रमण कर उन्हें अपना बंदी बना लिया। उन वैश्यों के नेता सुप्रिय नाम का एक शिव भक्त था। जब दारुक ने उन्हें अपने जेल  में बंद किया तो उसने देखा की सुप्रिय बिना किसी डर और खौफ के अपने ईस्ट देव का स्मरण कर रहा था। यह देख कर दारुक अत्यंत क्रोधित हो उठा और सुप्रिय को मारने के लिए दौड़ पडा परन्तु सुप्रिय ने बिना किसी डर के भगवान शिव का स्मरण किया। उसने भगवान् शिव से कहा की प्रभु मैं आपकी शरण में हूँ।उसकी पुकार सुन कर भगवान शिव कालकोठरी के कोने में बने एक बिल से प्रकट हुए और उनके साथ ही वहां एक विशाल मंदिर भी अवतरित हुआ।  दूसरी ओर दारुका ने देवी पार्वती की आराधना शुरू कर दी और उनसे अपने वंश की रक्षा करने को कहा। फिर देवी पार्वती ने भगवान् शिव से दारुका के वंश को जीवन दान देने की विनती की। तब शिवजी ने कहा की इस युग के अंतिम चरण से यहां किसी भी राक्षस का वास नहीं होगा और ज्योतिर्लिंग के रूप में भगवान् शिव और देवी पार्वती वहीँ स्थापित हो गए और उस दिन से उन्हें नागेश्वर तथा नागेश्वरी के नाम से जाना जाने लगा।

कुमारस्वामी की बागियों से लौटने की अपील, सरकार के भविष्य का फैसला आज

*रामेश्वरम यह ज्योतिर्लिंग तमिलनाडु के रामनाथ पुर नामक स्थान में स्थित है।  भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक होने के साथ यह स्थान हिंदुओं के चार धामों में एक है। इस ज्योतिर्लिंग की मान्यता है, कि इसकी स्थापना स्वयं भगवान श्रीराम ने की थी। भगवान राम ने स्वयं अपने हाथों से पवित्र पावन शिवलिंग की स्थापना की थी! राम के ईश्वर अर्थात भगवान शिव को रामेश्वर है।

*घृष्णेश्वर घृष्णेश्वर महादेव का प्रसिद्ध मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर के समीप दौलताबाद में है। देवगिरि पर्वत के निकट सुकर्मा नामक ब्राह्मण अपनी पतिव्रता पत्नी सुदेश के साथ भगवान् शिव की पूजा किया करते थे किंतु सन्तान न होने से चिंतित रहते थे। पत्नी के आग्रह पर उसके पत्नी की बहन घुस्मा के साथ विवाह किया जो परम शिव भक्त थी। शिव कृपा से उसे एक पुत्र धन की प्राप्ति हुई। इससे सुदेश को ईष्या होने लगी और उसने अवसर पा कर सौत के बेटे की हत्या कर दी। भगवान शिवजी की कृपा से बालक जी उठा तथा घुस्मा की प्रार्थना पर वहां शिवजी ने वास करने का वरदान दिया और वहां पर वास करने लगे ! घुश्मेश्वर के नाम से प्रसिध्द हुआ, उस तालाब का नाम भी तबसे शिवालय हो गया।  बौद्ध भिक्षुओं द्वारा निर्मित एलोरा की प्रसिद्ध गुफाएं इस मंदिर के समीप स्थित हैं।

नोट: ज्योतिर्लिंग से जुड़ी सारी बातें धार्मिक ग्रंथों,  कुछ शिव पुराण व कुछ अन्य धर्म ग्रंथों से ली गई है।