15 अगस्त 2019 : नार्थ कोरिया के तानाशाह के लिए भी खास है आजादी का ये दिन

200 साल से अंग्रेजों की गुलामी झेलने के बाद 15 अगस्त को भारत आजाद हुआ था, यह दिन देश के लिए बहुत खास है। भारत को आजाद कराने के लिए इस दिन लाखों लोगों ने अपने प्राण गवाये थे।

नई दिल्ली : 200 साल से अंग्रेजों की गुलामी झेलने के बाद 15 अगस्त को भारत आजाद हुआ था, यह दिन देश के लिए बहुत खास है। भारत को आजाद कराने के लिए इस दिन लाखों लोगों ने अपने प्राण गवाये थे। आज हम अपनी आजादी का जश्न मना रहे हैं तो केवल उन्हीं लोगों की वजह से जो अपने प्राणों की चिंता किए बिना भारत देश के लिए शहीद हो गए।

यह भी देखें… सरकार का बड़ा फैसला, 24 आतंकी और पत्थरबाज लखनऊ जेल में शिफ्ट

आपको बता दें, कि 15 अगस्त की तारीख सिर्फ भारत के लिए ही खास नही है बल्कि दुनिया के ऐसे और चार देश है जो इस दिन अपना-अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं। इन चार देशों के नाम हैं- उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, बहरीन और कांगो। जीं हां ये चार देश भी भारत की तरह 15 अगस्त को ही आजाद हुए थे।

बात करे अगर उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया की, तो इन देशों को 15 अगस्त 1945 के दिन जापान से आजादी मिली थी।

इसके साथ ही बहरीन को 15 अगस्त 1971 के दिन ब्रिटेन से आजादी मिली थी। और कांगो को 15 अगस्त 1960 के दिन फ्रांस से आजादी मिली थी।

यह भी देखें… 15 अगस्त 2019: बापू से पहले गुरु ने खादी को बनाया हथियार, लड़ी जंग-ए-आजादी

जानकारी के लिए बता दें, कि भारत में आजादी की जंग सन् 1930 से शुरू हुई थी। लेकिन इतने सालो बाद सन् 1947 में भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी। पर ब्रिटेन तो सन् 1947 में भी भारत को आजाद नहीं करना चाहता था। वो तो सन् 1948 में भारत को आजाद करना चाहता था। महात्मा गांधी द्वारा चलाये गए भारत छोड़ो आन्दोलन की वजह से उनको सन् 1947 में भारत को आजाद करना पड़ा।