Top

शिवसेना को बड़ा झटका: 26 पार्षदों और 300 कार्यकर्ताओं ने दिया इस्तीफा

स्थानीय शिवसेना नेताओं ने पार्टी के शीर्ष नेताओं से मिले आदेश के बाद सामूहिक तौर पर इस्तीफा दे दिया। वहीं अब देखने वाली बात ये है कि यहां शिवसेना और भाजपा के चक्कर में कोई दूसरा ने हाथ मार ले जाय।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 10 Oct 2019 5:35 AM GMT

शिवसेना को बड़ा झटका: 26 पार्षदों और 300 कार्यकर्ताओं ने दिया इस्तीफा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में चुनाव सर पर है। लेकिन इसके ठीक पहले यहां की बड़ी पार्टी शिवसेना को तगड़ा झटका लगा है। कल्याण (पूर्वी) विधानसभा सीट से पार्टी के 26 पार्षद और लगभग 300 कार्यकर्ताओं ने पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को अपना इस्तीफा भेज दिया है।

ये है मामला

बताया जा रहा है कि यह सभी विधानसभा चुनाव के लिए हुए सीटों के वितरण से नाखुश हैं। जानकारी के अनुसार इन सभी ने पार्टी के बागी उम्मीदवार धनंजय बोडारे को समर्थन देंगे।

ये भी पढ़ें— झटका: 150 ट्रेन और 50 स्टेशन होंगे प्राइवेट, तैयारी में मोदी सरकार

पार्टी सूत्रों के मुताबिक शिवसेना के नेता कल्याण (पूर्वी) सीट पर पार्टी के किसी उम्मीदवार को चाहते थे लेकिन भाजपा के साथ सीट बंटवारे में यह सीट भाजपा के पक्ष में चली गई। स्थानीय शिवसेना नेता इस बात से नाराज हैं कि पार्टी ने उन्हें भाजपा के प्रत्याशी गणपत गायकवाड़ का समर्थन करने के लिए कहा है। जिसके बाद स्थानीय नेताओं ने फैसला लिया कि वह बोडारे का समर्थन करेंगे।

सथानीय नेताओं ने बोराडे की मदद करने का लिया फैसला

शिवसेना के कल्याण (पूर्व) विधानसभा क्षेत्र के प्रमुख प्रशांत काले ने कहा, 'हमने गायकवाड़ की बजाए बोराडे की मदद करने का फैसला लिया है। पिछले 10 सालों में विधायक के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने कुछ भी नहीं किया है। हमने पार्टी के शीर्ष नेताओं द्वारा दबाव बनाए जाने के बाद इस्तीफा देने का फैसला लिया।'

ये भी पढ़ें— सलमान खान के घर क्राइम ब्रांच ने मारा छापा, हुई गिरफ़्तारी

हालांकि, स्थानीय नेताओं के बीच जारी नाराजगी को लेकर शिवसेना के वरिष्ठ नेताओं ने मंगलवार को एक बैठक बुलाई और पार्टी कार्यकर्ताओं से भाजपा उम्मीदवार का समर्थन करने को कहा। स्थानीय शिवसेना नेताओं ने पार्टी के शीर्ष नेताओं से मिले आदेश के बाद सामूहिक तौर पर इस्तीफा दे दिया। वहीं अब देखने वाली बात ये है कि यहां शिवसेना और भाजपा के चक्कर में कोई दूसरा ने हाथ मार ले जाय।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story