×

कोहरे का कहर: सड़क दुर्घटनाओं में चली गई 34 लोगों की जान

By

Published on 9 Nov 2017 5:18 AM GMT

कोहरे का कहर: सड़क दुर्घटनाओं में चली गई 34 लोगों की जान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: मौसम में बदलाव के साथ ही शुरू हुए कोहरे ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में जहां जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है, वहीं हादसों से सड़कें लाल हो रही हैं। दुर्घटनाओं ने 34 लोगों की जान ले ली। कई घरों के चिराग तक बुझ गए। धुंध से रेल यातायात भी प्रभावित हुआ है।

विभिन्न स्थानों से मिल रही खबरों के अनुसार उत्तर प्रदेश में हुए विभिन्न हादसों में 17 की जान चली गई। सबसे अधिक कहर यमुना एक्सप्रेस वे और आगरा मंडल में बरपा। यहां हादसों में छह की मौत हो गई, जबकि कई घायल हो गए। वहीं मुजफ्फरनगर में खतौली के समीप नेशनल हाईवे पर कई वाहन आपस में भिड़ गए, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। अलीगढ़ में भी दो लोगों की मौत हो गई। वहीं अवध क्षेत्र में सड़क हादसों में पांच लोगों की मौत हो गई और चार लोग घायल हो गए। अन्य स्थानों पर भी सड़क दुर्घटनाएं हुई जिसमें कई लोगों की जान चली गई। पूरे प्रदेश में ट्रेनों की रफ्तार पर भी असर पड़ा।

यह भी पढ़ें: SMOG से दिल्ली की हालत खराब, सभी स्कूल बंद, कई निर्माण कार्यों पर रोक

पंजाब के बठिंडा-बरनाला राष्ट्रीय राजमार्ग पर बठिंडा से 12 किलोमीटर दूर स्थित गांव भुच्चो खुर्द के पास बुधवार सुबह गहरी धुंध में 70 किलोमीटर की स्पीड से आए मिक्सर ट्रक ने सड़क किनारे खड़े 13 लोगों को कुचल डाला। इस दर्दनाक हादसे में नौ की मौत हो गई, जबकि चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। ये सभी इससे चंद मिनट पहले हुई दो बसों की टक्कर के बाद बसों से उतरे थे और पुल की रेलिंग के पास खड़े होकर अगली बस का इंतजार कर रहे थे। इनमें कॉलेज और निजी संस्थानों के विद्यार्थी व सरकारी महिला कर्मचारी थे।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के स्कूल, कॉलेज बंद, केजरीवाल ने मांगा कैप्टन का साथ

इसी दौरान करीब 8.35 पर रामपुरा की तरफ से आए मिक्सर ट्राले ने पुल पर खड़े इन लोगों को कुचल दिया। तीन छात्रों ने तो भाग कर जान बचा ली। मगर अन्य 13 को वो रेलिंग के बीच पीसता चला गया। इस हादसे में नौ लोगों की मौत हो गई है। इसी दौरान इसी स्थान पर एक अन्य बस की टक्कर में एक और महिला की मौत हो गई। दोनों हादसों में कुल 10 लोग मारे गए। मरने वालों में सरकारी स्कूल की अध्यापिका, फूड एंड सप्लाई विभाग की महिला क्लर्क, पांच छात्राएं और तीन छात्र शामिल हैं।

हरियाणा में भी धुंध से लगातार जानलेवा हादसे हो रहे हैं। बुधवार को भी दृश्यता कम होने से कई जगह हादसे हुए जिनमें चार लोगों की मौत हो गई और 50 से अधिक घायल हो गए। उधर, मंगलवार रात दृश्यता शून्य होने के कारण खरखौदा-सोनीपत मार्ग पर एक स्कार्पियो रेलिंग तोड़ते हुए ड्रेन नंबर-8 में जा गिरी। इस हादसे में महिला सावित्री (56) की मौत हो गई। झज्जर जिले के बहादुरगढ़ में बुधवार सुबह लाइन पार थाना क्षेत्र के अंतर्गत नाहरा-नाहरी मार्ग पर गांव बामनौली के नजदीक सड़क दुर्घटना में बाइक सवार एक युवक की मौत हो गई।

वहीं कोसली मार्ग पर सुबाना गांव के पास कोहरे के कारण सड़क किनारे खड़े ट्रक से बाइक की टक्कर हो गई। इस हादसे में तुंबाहेड़ी गांव निवासी विजय पुत्र जगबीर की मौत हो गई। कैथल जिले में चीका अनाज मंडी के नजदीक ट्रक व मोटरसाइकिल की टक्कर में कुलदीप की मौत हो गई। मृतक पिहोवा के मोहनपुर गांव का रहने वाला था। पानीपत में विभिन्न जगहों पर 12 वाहन टकरा गए, जिनमें 35 लोग घायल हो गए।

Next Story