×

Delhi MCD Election: आरोपों में घिरे तीन मंत्रियों के इलाकों में हारी आप, मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन को लेकर उठे सवाल

Delhi MCD Election: दिल्ली में आम आदमी पार्टी के दो चर्चित चेहरों डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और मंत्री सत्येंद्र जैन के इलाकों में पार्टी को करारा झटका लगा है।

Anshuman Tiwari
Published on: 7 Dec 2022 10:50 AM GMT
AAP lost MCD three seats because of allegations on Ministers
X

AAP lost MCD three seats because of allegations on Ministers (Image: Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Delhi MCD Election Results 2022: दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के चुनाव में आम आदमी पार्टी ने भले ही बहुमत हासिल कर लिया हो मगर आरोपों में घिरे आप के तीन मंत्रियों के इलाकों में आप अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी है। दिल्ली में आम आदमी पार्टी के दो चर्चित चेहरों डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और मंत्री सत्येंद्र जैन के इलाकों में पार्टी को करारा झटका लगा है। इसके अलावा बस खरीद में घोटाले के आरोपों में घिरे परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के इलाके में भी पार्टी का प्रदर्शन काफी खराब रहा है। सिसोदिया,सत्येंद्र जैन और गहलोत के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों की ओर से जांच की जा रही है। ऐसे में इन नेताओं को लेकर सवाल उठने लगे हैं।

सिसोदिया के इलाके में आप को करारा झटका

दिल्ली नगर निगम के चुनाव में आम आदमी पार्टी ने 134 वार्डों में जीत हासिल करके बहुमत हासिल कर लिया है। पार्टी का यह प्रदर्शन काफी शानदार माना जा रहा है और पार्टी कार्यकर्ता जश्न मनाने में डूबे हुए हैं मगर इन चुनाव नतीजों ने एक मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की टेंशन बढ़ा दी है। विभिन्न आरोपों में घिरे पार्टी के तीन मंत्रियों के इलाकों में आप का प्रदर्शन बेहद खराब रहा है।

पहले बात मनोज सिसोदिया की जाए तो शिक्षा और आबकारी विभाग संभालने वाले मनीष सिसोदिया पर शराब घोटाले में गंभीर आरोप लगे हैं। केंद्रीय एजेंसियां इस मामले में जांच पड़ताल में जुटी हुई हैं जबकि भाजपा की ओर से लगातार हमले किए जा रहे हैं। मनीष सिसोदिया के विधानसभा क्षेत्र पटपड़गंज में चार वार्ड हैं और इनमें से तीन वार्डों में भारतीय जनता पार्टी ने जीत का परचम फहरा दिया है। इस विधानसभा क्षेत्र में आम आदमी पार्टी को सिर्फ एक सीट पर जीत हासिल हुई है।

सत्येंद्र जैन के इलाके में आप का सूपड़ा साफ

तिहाड़ जेल में बंद केजरीवाल के एक और चर्चित मंत्री सत्येंद्र जैन के इलाके में तो आम आदमी पार्टी की हालत और खस्ता है। सत्येंद्र जैन के क्षेत्र शकूरबस्ती में तीन वार्ड हैं और इन तीनों वार्डों में इस बार कमल खिला है। एमसीडी चुनाव के दौरान सत्येंद्र जैन के तिहाड़ जेल के कई वीडियो जारी हुए थे जिसे लेकर काफी विवाद पैदा हुआ था।

भाजपा ने इस मामले में बड़ा हमला बोलते हुए आप सरकार और सत्येंद्र जैन पर बड़े आरोप लगाए थे। अब चुनाव नतीजों में आप को इस इलाके में करारा झटका लगा है क्योंकि पार्टी एक भी सीट जीतने में कामयाब नहीं हो पाई है।

गहलोत के इलाके में भी मिली हार

इसी तरह केजरीवाल की सरकार में परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत बस खरीद के घोटाले में फंसे हुए हैं। उन पर भाजपा की ओर से गंभीर आरोप लगाए गए हैं। केंद्रीय एजेंसियों की ओर से उनके खिलाफ जांच भी की जा रही है। गहलोत के इलाके नजफगढ़ में भी आम आदमी पार्टी की हालत खस्ता है। नजफगढ़ में 4 वार्ड हैं और इनमें से 3 वार्डों में भारतीय जनता पार्टी ने जीत हासिल करके आप को बैकफुट पर धकेल दिया है। आप को नजफगढ़ के सिर्फ एक वार्ड में जीत हासिल हुई है।

भाजपा को मिला हमला करने का मौका

मुख्यमंत्री केजरीवाल की ओर से दिल्ली में शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफी काम किए जाने का दावा किया जाता रहा है। इसके बावजूद सिसोदिया, सत्येंद्र जैन और गहलोत के इलाके में पार्टी की हार ने ब्रांड केजरीवाल पर चोट भी पहुंचाई है। पार्टी की ओर से एमसीडी में बहुमत मिलने पर जोरदार जश्न जरूर मनाया जा रहा है मगर आप सरकार के तीन प्रमुख मंत्रियों के इलाकों में मिली हार को लेकर सवाल भी उठाए जा रहे हैं। इन मंत्रियों के इलाकों में आप को मिली हार ने भाजपा को हमला करने का बड़ा मौका दे दिया है।

मुस्लिम बहुल इलाकों में भी अच्छा नहीं रहा प्रदर्शन

आम आदमी पार्टी का प्रदर्शन मुस्लिम बहुल इलाकों में भी अच्छा नहीं रहा। दिल्ली में आप का मुस्लिम चेहरा माने जाने वाले अमानतुल्लाह खान और दिल्ली दंगे के आरोपी ताहिर हुसैन के इलाकों में जनता ने उन पर भरोसा नहीं किया। अमानतुल्लाह खान की विधानसभा सीट ओखला में आने वाले पांच वार्डों में आप को केवल एक पर जीत मिली। यहां दो पर बीजेपी और दो पर कांग्रेस ने जीत हासिल की। वहीं, जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपी पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन के नेहरू विहार वार्ड नंबर 244 पर तो पार्टी तीसरे नंबर पर रही। यहां मुख्य मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच ही रहा।

Snigdha Singh

Snigdha Singh

Next Story