निलंबित डॉक्टर ने नशे में किया हंगामा, पुलिस हाथ बांधकर पीटते-घसीटते ले गई थाने

आंध्र प्रदेश सरकार के खिलाफ टिप्पणी को लेकर एक सरकारी डॉक्टर को निलंबित कर दिया गया। इसी को लेकर वह डॉक्टर सरकार के खिलाफ लामबंद हो गए।

विशाखापट्टनम: आंध्र प्रदेश सरकार के खिलाफ टिप्पणी को लेकर एक सरकारी डॉक्टर को निलंबित कर दिया गया। इसी को लेकर वह डॉक्टर सरकार के खिलाफ लामबंद हो गए। डॉक्टर ने नशे में धुत होकर सड़क पर खूब हंगामा किया। इसी को लेकर उनके खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर शनिवार को हिरासत में लिया है। पुलिस आयुक्त आर.के. मीना ने रविवार को मीडिया को जानकारी दी कि एनेस्थिसिया विभाग के डॉक्टर सुधाकर का इस समय एक सरकारी अस्पताल में मानसिक परीक्षण चल रहा है।

ये भी पढ़ें: यूपी के कुशीनगर में बस हादसा, 12 प्रवासी मजदूर घायल

पीपीई किट्स की कमी को लेकर बनाया था वीडियो

दरअसल, डॉक्टर ने एक वीडियो बनाया था, जिसमें उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार बिना पीपीई किट और मास्क के कोरोना मरीजों का इलाज करने के लिए कह रही है। उन्होंने उस वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया था। इसी में उन्हें सरकार के खिलाफ झूठे आरोप लगाने को लेकर निलंबित कर दिया गया था। डॉ. सुधाकर एनेस्थेटिस्ट के तौर पर सरकारी अस्पताल में काम करते थे।

ये भी पढ़ें: देश में आज से लॉकडाउन 4.0 लागू, 31 मई तक रहेगा जारी

पुलिस ने किया ऐसा बर्ताव

बता दें कि इसी से क्षुब्ध होकर डॉक्टर ने विशाखापट्टनम में नशे में धुत होकर सड़क पर हंगामा किया। काबू पाने के लिए पुलिस ने डॉक्‍टर के दोनों हाथ पीछे बांध दिए। लात मारकर सड़क पर लिटा दिया। फिर घसीटते और पीटते हुए ऑटों में डाल दिया। इस घटना का भी वीडियो सामने आ रहा है।

ये भी पढ़ें: अमेरिका में 24 घंटों में कोरोना वायरस के कारण 820 लोगों की मौत

निलंबन के बाद पहली बार दिखे

आंध्र प्रदेश में पीपीई किट की कमी वाले निराधार आरोपों के बाद सरकार ने उन्हें 9 अप्रैल को निलंबित कर दिया था। उसके बाद से डॉक्टर के बारे में किसी को कोई भी जानकारी नहीं थी। फिर उन्हें अचानक शनिवार को सड़कों पर नशे में की हालत में धुत देखा गया।

घसीटते और पीटते हुए ले गई पुलिस

ऐसा बताया जा रहा है कि उन्होंने मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी के लिए अभद्र भाषा का प्रयोग किया। वहां ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारी के साथ तीन घंटे तक बहस करने के बाद अपनी शर्ट फाड़ डाली। पुलिस ने उनके दोनों हाथ पीछे बांधकर पीछे से लात मारते हुए सड़क पर गिरा दिया। फिर उन्‍हें घसीटते और पीटते हुए थाने ले गई।

ये भी पढ़ें: J& K पुलवामा जिले के पांच गांवों में सुरक्षाबलों ने शुरू किया तलाशी अभियान

बोले- मुख्यमंत्री मुझे मारने की कोशिश में हैं

गिरफ्तार डॉक्टर ने सरकार पर आरोप लगाया है कि सरकार ने उनका अपहरण कर लिया और उन्‍हें सड़क पर फेंक दिया गया। उन्‍होंने यह भी आरोप लगाया कि आंध्र प्रदेश के सीएम उन्हें मारने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे वाकये पर आंध्र प्रदेश में राजनीतिक मोड़ भी आ गया है। पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने डॉक्टर के साथ पुलिस के ऐसे व्यवहार पर नाराजगी जताई है और पुलिस अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग भी की है।

ये भी पढ़ें: यूपी के हमीरपुर में प्रवासी मजदूरों से भरी बस पलटी, 6 घायल