×

Bharat Bandh: देशभर में भारी विरोध, 529 ट्रेन कैंसिल, दिल्ली के शिवाजी ब्रिज स्टेशन पर कांग्रेस का प्रदर्शन

Bharat Bandh Live: भारत बंद के ऐलान के बाद उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, पश्चिम बंगाल सहित कई राज्यों में प्रशासन ने भारी पुलिसबल तैनात किया है।

Rajat Verma
Written By Rajat VermaNewstrack aman
Updated on: 2022-06-20T20:54:34+05:30
Agneepath Scheme Protest
X

अग्निपथ योजना के विरोध में भारत बंद का ऐलान (photo: social media )

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Bharat Bandh: केंद्र सरकार द्वारा अग्निपथ योजना (Agneepath Scheme Protest) के ऐलान के बाद से देश के कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन जारी है। कई संगठनों द्वारा प्रदर्शन को व्यापक करने के उद्देश्य से भारत बंद (Bharat Bandh) का ऐलान किया गया है। आपको बात दें, कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और बिहार (Bihar) में विरोध सबसे उग्र स्तर पर हैं, जिसके तहत अबतक प्रदर्शनकारियों ने कई ट्रेनों और बसों को आग के हवाले करते हुए सरकारी संपत्ति को भारी नुकसान पहुंचाया है।

भारत बंद (Bharat Bandh) के ऐलान के बाद उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, पश्चिम बंगाल सहित कई राज्यों में प्रशासन ने भारी पुलिसबल तैनात किया है। भारत बंद के आह्वान के चलते दंगे भड़कने और हिंसक प्रदर्शन के आसार दर्ज किए जा रहे हैं। फिलहाल, हाई अलर्ट जारी करते हुए स्थिति पर नज़र रखी जा रही है। भारत का आह्वान करने वाले संगठनों में अधिकतर सेना की नौकरी की तैयारी कर रहे युवा हैं, जो अग्निपथ योजना को रद्द कर सामान्य सेना भर्ती वापस से शुरू करने की बात कह रहे हैं।|

बंद के चलते कुल 529 ट्रेनें रद्द

रेल मंत्रालय के अनुसार, अग्निपथ स्कीम को लेकर आंदोलन के कारण 181 मेल एक्सप्रेस रद्द (181 Mail Express Canceled) और 348 यात्री ट्रेनें रद्द (348 Passenger Trains Canceled) कर दी गईं। वहीं, 4 मेल एक्सप्रेस (4 Mail Express) और 6 पैसेंजर ट्रेनें (6 Passenger Trains) आंशिक रूप से रद्द किए गए हैं। हालांकि, इस दौरान किसी भी ट्रेन को डायवर्ट (Train Divert) नहीं किया गया। देशभर में हो रहे उग्र प्रदर्शनों के मद्देनजर रेलवे सुरक्षा बल (RPF) और सरकारी रेलवे पुलिस (GRP) को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

RPF ने किया Flag March

इस बारे में, दिल्ली RPF के सुरक्षा आयुक्त ए.पी. जोशिया (A.P. josiah) ने बताया कि, 'रेल संपत्ति की सुरक्षा और जनमानस की सुरक्षा के लिए व्यवस्था कड़ी की गई है। आरपीएफ के फ्लैग मार्च (RPF Flag March) का उद्देश्य लोगों को भरोसा दिलाना है, कि सुरक्षा बल सजग है। उन्होंने कहा, हम रेल संपत्ति को बचाने के लिए सक्षम हैं। यहां सुबह से कोई भी ट्रेन बाधित नहीं हुई है।'

पटना: 12 लोगों के केस दर्ज, 190 हिरासत में

बिहार में 'अग्निपथ स्कीम' को लेकर प्रदर्शन आज भी जारी है। इस संबंध में पटना के डीएम चंद्रशेखर सिंह (Patna DM Chandrashekhar Singh) ने कहा, कि दानापुर और मसौढ़ी रेलवे स्टेशन पर हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण थी। इसमें सार्वजनिक संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचा है। आम लोगों को परेशानियां हुई हैं। उन्होंने बताया कि, 12 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है, जबकि 190 लोगों को गिरफ्तार किया है।

'युवाओं के लिए सुअवसर है 'अग्निपथ'

देश में बवाल और विरोध के बीच 'आर्ट ऑफ लिविंग' के संस्थापक श्री श्री रविशंकर (Art of Living founder Sri Sri Ravi Shankar) ने 'अग्निपथ स्कीम' के खिलाफ जारी प्रदर्शन को लेकर निराशा व्यक्त की है। रविशंकर ने कहा, कि देश की रक्षा के लिए समर्पित और त्याग के मनोभाव से निकले हुए युवाओं के लिए यह (अग्निपथ योजना) सुअवसर है।' उन्होंने कहा कि, किसी के बहकावे में न आएं। इसे ठीक से समझने की जरूरत है। युवा मिलने वाली सुविधाओं और प्रक्षिशण से 'स्व' तथा 'राष्ट्र का हित' करें। उन्होंने आगे कहा कि, दुनिया भर में, जैसे स्विट्जरलैंड (Switzerland) व सिंगापुर (Singapore) जैसे छोटे देशों में भी एक से दो वर्ष सेना में सेवा देना अनिवार्य है। इनकी तुलना में भारत की नई सैन्य सेवा योजना बेहतर है।

बिहार के 20 जिलों में इंटरनेट सेवा बन्द

बिहार से शुरू हुए अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदर्शन की आग अब हिंसक होते हुए देश के अन्य कई राज्यों तक पहुंच गई है। इस दौरान प्रशासन ने अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए बिहार के कुल 20 राज्यों में हालात सामान्य होने तक इंटरनेट सेवा पर विराम लगा दिया गया है। साथ ही प्राप्त सूचना के आधार पर हिंसक प्रदर्शन के चलते जारी जांच में लोगों को उकसाने और हिंसा भड़काने को लेकर कई कोचिंग संचालकों के नाम भी केस दर्ज किया गया है।

इस दौरान दिल्ली और बंगाल के कई जिलों में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है, जिससे स्थिति बिगड़ने पर हालात से निपटा जा सके। प्रशासन ने युवाओं और आमजन से किसी भी अफवाह और बहकावे में ना आने की अपील की है। विपक्षी दलों द्वारा भी लगातार इस अग्निपथ योजना का विरोध जारी है, साथ ही इस दौरान सभी ने युवाओं से हिंसक प्रदर्शन ना करते हुए शांतिपूर्ण तरीके से अपनी बात कहने की सलाह दी है।

Monika

Monika

Next Story