घाटी में शांति के लिए राजनाथ के नेतृत्व में ऑल पार्टी डेलीगेशन जाएगा श्रीनगर

नई दिल्ली: हिजबुल आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद पिछले 52 दिनों से घाटी अशांत है। हालांकि केंद्र सरकार लगातार शांति के प्रयासों में जुटी है। इसी के तहत एक महीने के भीतर गृहमंत्री राजनाथ सिंह दो बार जम्मू-कश्मीर जा चुके हैं। अब इसी दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए केंद्र सरकार ने ‘ऑल पार्टी डेलीगेशन’ पर काम शुरू किया है। इसके तहत ऑल पार्टी डेलीगेशन 4 सितंबर को श्रीनगर जाएगा, जिसका नेतृत्व खुद गृहमंत्री राजनाथ सिंह करेंगे।

डेलीगेशन की सूची तैयार
उल्लेखनीय है कि राजनाथ सिंह ने रविवार को कश्मीर घाटी की सुरक्षा और वहां चल रहे कार्यों की समीक्षा की। वहीं बीजेपी के नेताओं से मिलकर ऑल पार्टी डेलीगेशन के लिए रोड मैप तैयार किया। सूत्रों ने बताया, केंद्र सरकार ने अन्य दलों के नेताओं के डेलीगेशन की सूची तैयार कर ली है।

पीएम ने भी जताई थी चिंता
पीएम नरेंद्र मोदी ने भी रविवार को ‘मन की बात’ में कश्मीर मुद्दे का जिक्र किया था। उन्होंने दुःख जताते हुए कहा था कि ‘कश्मीर में चाहे नौजवानों का खून बहे या सुरक्षा बल के जवानों का, खून हिंदुस्तान का ही बहता है।’ पीएम ने अलगाववादियों को कड़ा संदेश देते हुए कहा था कि ‘घाटी में अशांति फैलाने वाले लोग जो बच्चों का इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें इसका जवाब देना होगा।’

पीएम ने ‘एकता-ममता’ को बताया मूलमंत्र
पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ में कश्मीर के हालात पर बोलते हुए एकता और ममता को कश्मीर समस्या के समाधान का मूलमंत्र बताया था। इससे पहले महबूबा मुफ्ती भी पीएम नरेंद्र मोदी से मिलकर कश्मीर घाटी में फैली हिंसा की विस्तृत जानकारी दे चुकी हैं।