बर्फ का ऐसा होटल! जो देखते ही देखते बन जाता है समुद्र, अद्भुत है ये

आपको जान कर आश्चर्य होगा कि बर्फ की सिल्लियों का इस्तेमाल करते हुए एक होटल भी बनाया गया है। इस होटल में लोग रूकने के लिए भी आते हैं और अच्छा खासा पैसा भी खर्च करते हैं। मगर प्रकृति के नियमों के मुताबिक सिर्फ 5 माह ही यहां का तापमान ऐसा होता है कि बर्फ का होटल बना रह पाता है।

Published by Harsh Pandey Published: December 23, 2019 | 6:17 pm

नई दिल्ली: भारत में इन दिनों सर्दी का मौसम है। ठण्ड के दिनों में लोग पानी को छूने से भी कतराते हैं ऐसे में कोई उनको बर्फ को छूना भी नहीं चाहता है।

अगर आपको एक बर्फ के बने होटल में रहना हो तो, क्या आप तैयार होंगे, एक तरफ जहां कुछ लोग तो इस होटल के बारे में सुनकर ही सिहर जाएंगे। तो वहीं कुछ लोग तो इसे देखना और इसके बारे में जानना भी चाहेंगे। तो आईये आपको लेकर चलते हैं बर्फ से बने होटल में….

बर्फ का होटल…

आपको जान कर आश्चर्य होगा कि बर्फ की सिल्लियों का इस्तेमाल करते हुए एक होटल भी बनाया गया है। इस होटल में लोग रूकने के लिए भी आते हैं और अच्छा खासा पैसा भी खर्च करते हैं।

मगर प्रकृति के नियमों के मुताबिक सिर्फ 5 माह ही यहां का तापमान ऐसा होता है कि बर्फ का होटल बना रह पाता है। उसके बाद जैसे-जैसे बर्फ पिघलती जाती है, होटल भी धीरे-धीरे करके खत्म हो जाता है।

इस जगह बन रहा होटल…

आपको बता दें कि इस तरह का एकमात्र होटल स्वीडन में है। स्वीडन में इसे आइस होटल के नाम से जाना जाता है। यह हर साल सर्दियों में बनाया जाता है और 5 महीने बाद नदी में तब्दील हो जाता है।

1989 में पहली बार बना होटल इस साल अपनी 30वीं एनिवर्सरी मना रहा है। इस वजह से इस बार होटल के संस्थापक यंगवे बर्गक्विस्ट ने यहां स्पेशल सुइट बनवाए हैं, जिन्हें 16 देशों के 33 आर्टिस्ट ने महज एक सप्ताह में तैयार किया है।

ब्लॉक्स का होता है इस्तेमाल…

इस बर्फ के होटल में 12 बेडरूम, आइस बार और लेपर्ड बनाए गए हैं। संस्थापक यंगवे बताते हैं कि होटल आर्कटिक सर्कल से 200 किमी दूर टॉर्न नदी पर बना है। यहां का तापमान माइनस 18 से 40 डिग्री तक रहता है।

इस होटल को देखने और महसूस करने के लिए यहां हर साल करीब 70 हजार लोग छुटि्टयां मनाने आते हैं। होटल में बर्फ के 1000 ब्लॉक्स लगे हैं। इसमें लगाए जाने वाले हर ब्लॉक का वजन करीब ढाई टन होता है।

30 साल पहले बनाई गई थी पालिसी…

खास बात यह है कि इस होटल को लांच हुए 30 साल हो चुके हैं। इसे बनाने का काम मार्च माह में शुरू किया जाता है। इसे बनाने के लिए पास की टॉर्ने नदी से लगभग 2,500 टन बर्फ एकत्र की जाती है। निर्माण शुरू होने पर अक्टूबर तक बर्फ को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है।

कई कपल्स और पिता अपनी बेटी को गिफ्ट देने के लिए यहां पर सुइट बुक करवा रहे हैं। इसमें बर्फ के नक्काशीदार पर्दे और जमे हुए हिरन शामिल हैं। साथ ही छह बर्फ सीटों के साथ एक सभागार भी है।

यह है प्रमुख खासियत…

रॉबर्ट हार्डिंग का “बोन रूम” भी है। इसके अलावा यहां विशाल बर्फ-नक्काशीदार हड्डी की मूर्तियां एक जमे हुए झूमर की सुविधा है। यहां बर्फीले मनोरंजन पार्क के साथ बर्फीले मनोरंजन पार्क के रूप में वर्णित किया जा सकता है।

होटल की सालगिरह मनाने के लिए 30 सितारों को इसकी छत पर उकेरा गया है। इमारत का निर्माण करने के लिए 30,000 क्यूबिक मीटर स्निस (बर्फ और बर्फ का मिश्रण) का उपयोग किया, जो 110 मिलियन आइस क्रीम के बराबर है।

इसमें बर्फ पर नक्काशीदार पर्दे, बारहसिंगे, केंद्र में होटल के प्रवेश द्वार के एक प्रभावशाली पैमाने के मॉडल और सभागार में लघु थिएटर सीटों के बीच जमे हुए बिस्तर हैं, इसमें 6 आदमियों के बैठने के लिए बर्फ के आकार की सीटें हैं। यहां बर्फ से ढके रोलर कोस्टर, गेम्स और बार के आसपास गर्म हवा के गुब्बारे हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App