एशिया का सबसे लंबा पुल बनकर तैयार, गुजर सकेंगे टैंक, PM करेंगे उद्घाटन, ये हैं इसकी खूबियां

देश को कल एशिया का सबसे लंबा पुल मिलने जा रहा है। पीएम मोदी शुक्रवार को धौला-सादिया पुल का उद्घाटन करेंगे। ब्रह्मपुत्र नदी पर बने पुल की लंबाई 9.15 है।

Published by sujeetkumar Published: May 25, 2017 | 6:34 pm
Modified: May 25, 2017 | 6:40 pm

नई दिल्ली: देश को कल एशिया का सबसे लंबा पुल मिलने जा रहा है। पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को धौला-सादिया पुल का उद्घाटन करेंगे। असम में ब्रह्मपुत्र नदी के ऊपर बने 9.15 लम्बे इस पुल के चलते अब अरुणाचल और असम की दूरी बेहद कम हो गयी है।

पुल के बनने से पूर्वी अरुणाचल प्रदेश में संचार सुविधा काफी बेहतर हो जाएगी। पुल का सबसे बड़ा लाभ भारतीय सेना को होगा। पुल से सेना को असम से अरुणाचल प्रदेश स्थित भारत- चीन सीमा तक पहुंचने में तीन से चार घंटे का समय लगेंगे। इस सीमा पर भारत की किबिथू, वालॉन्ग और चागलगाम सैन्य चौकियां हैं।

पुल की लागत
पुल की लागत तकरीबन 10 हजार करोड़ रुपए है। पुल के साथ ही उसे दूसरी सड़कों से जोड़ने के लिए 28.5 किलोमीटर लंबाई की सड़कों का निर्माण भी किया गया है।

अटल बिहारी वाजपेयी को पत्र लिखकर पुल बनाने की मांग की थी
2003 में असम के पूर्व सीएम मुकुट मिथि ने पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को पत्र लिखकर ये पुल बनाने की मांग की थी। सीएम मुकुट ने पीएम अटल को लिखे पत्र में पुल बन जाने से चीन सीमा तक भारत की पहुंच को आसान बनाने की भी बात लिखी थी। अगस्त 2003 में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने पुल बनने की संभावना का जमीनी अध्ययन पूरा कर लिया। पुल की मंजूरी मिलने के बाद इसका निर्माण 2011 में शुरू हुआ था।

ये हैं पुल की खूबियां
ये देश और एशिया का सबसे लंबा पुल है। पुल की लंबाई 9.15 किलोमीटर है। मुंबई बांद्रा-वर्ली सी-लिंक से 30 फीसदी ज्यादा लंबा है। पुल असम के जिला तिनसुकिया में बना है, जो ब्रह्मपुत्र नदी की सहायक नदी लोहित नदी पर बनाया गया है।

असम में गुवाहाटी से 540 किलोमीटर दूर सादिया है, जबकि धौला अरुणाचल की राजधानी ईटानगर से 300 किलोमीटर दूर है। पुल से असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच की दूरी कम होगी। अब तक अरुणांचल जाने के दूसरे सड़क रास्ते से 8 घंटे का वक़्त लगता था और फेरी यानी नाव से साढ़े 4 घंटे, लेकिन इस पुल के बनने से यह दूरी केवल आधे घंटे में पूरी कर ली जा सकेगी।

ब्रिज के ऊपर से 60 टन का लड़ाकू टैंक बड़ी आसानी से लेकर जाया जा सकता है। सैन्य साजो सामान आसानी से अरुणाचल प्रदेश के अनिनी में बने सामरिक ठिकाने तक पहुंचाया जा सकेगा। पुल को कुछ इस तरह डिजाइन किया गया है, कि इस पर 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गाड़ियां चल सके ताकि तेज आवाजाही हो पाए।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App