Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

असम में शोक की लहर: कांग्रेस पार्टी से विदा हुए दिग्गज नेता, चुनाव से पहले झटका

असम के करीमगंज जिले के बदरपुर से कांग्रेस पार्टी के विधायक जमाल उद्दीन अहमद का मंगलवार की रात निधन हो गया। जिसके चलते पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। करीमगंज के डिप्टी कमिश्नर एमपी अंबामुथन ने मौत की पुष्टि की।

Vidushi Mishra

Vidushi MishraBy Vidushi Mishra

Published on 27 Jan 2021 7:20 AM GMT

असम में शोक की लहर: कांग्रेस पार्टी से विदा हुए दिग्गज नेता, चुनाव से पहले झटका
X
कांग्रेस विधायक जमाल उद्दीन ने मंगलवार शाम को आखिरी सांस लीं। जिसके बाद से पार्टी में शोक की लहर है। डिप्टी कमिश्नर एमपी अंबामुथन ने मौत की पुष्टि की।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: असम विधानसभा चुनाव 2021 से पहले कांग्रेस को जोरदार झटका लगा है। राज्य के करीमगंज जिले के बदरपुर से कांग्रेस पार्टी के विधायक जमाल उद्दीन अहमद का मंगलवार की रात निधन हो गया। जिसके चलते पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। बीते दिन शाम को 66 साल के जमाल ने बेचैनी की शिकायत की, फिर उन्हें करीमगंज के सिविल हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया गया। जहां से उन्हें सिलचर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में शिफ्ट करने की तैयारी चल रही थी। पर उससे पहले ही जमाल अहमद ने दम तोड़ दिया।

ये भी पढ़ें...Jaunpur News: पूर्व राज्यपाल के निधन पर शोक, समाज सेवी संस्थाओं ने किया याद

करीमगंज में होगा अंतिम संस्कार

कांग्रेस विधायक जमाल उद्दीन ने मंगलवार शाम को आखिरी सांस लीं। जिसके बाद से पार्टी में शोक की लहर है। करीमगंज के डिप्टी कमिश्नर एमपी अंबामुथन ने मौत की पुष्टि की। वहीं बुधवार दोपहर करीमगंज में अंतिम संस्कार होगा।

जमाल अहमद ने 26 जनवरी गणतंत्र दिवस समारोह के साथ-साथ अप्रैल-मई में होने वाले मतदान के लिए कई समारोह में भाग लिया था।इसमें कांग्रेस नेता, बदरपुर, असम के माननीय विधायक, जनाब जमाल उद्दीन अहमद साहब के निधन के बारे में सुनकर अत्यंत खेद हुआ। मेरी गहरी संवेदना, अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष और सिलचर की पूर्व सांसद सुष्मिता देव ने ट्वीट किया।

JAMAL AHMED फोटो-सोशल मीडिया

ये भी पढ़ें...पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद का निधन, नहीं मानी थी लाल कृष्ण आडवाणी की ये बात

असम विधानसभा में विपक्षी कांग्रेस की ताकत

बता दें, जमील अहमद ने बदरपुर सीट से 2001 में पहली बार तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर और 2011 और 2016 में कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में जीत हासिल की थी। ऐसे में अहमद के निधन के साथ, असम विधानसभा में विपक्षी कांग्रेस की ताकत 19 तक आ गई।

जबकि पार्टी के दो मौजूदा विधायकों ने बीते महीने इस्तीफा दे दिया था और सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और एक अन्य विधायक – पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई – शामिल हुए थे।

ये भी पढ़ें...Jaunpur News: पूर्व राज्यपाल के निधन पर शोक, समाज सेवी संस्थाओं ने किया याद

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Desk Editor

Next Story