असम के बाद अब दिल्ली और मुंबई में NRC लागू करने की उठी मांग

असम में नेशनल सिटिजन रजिस्‍टर (एनआरसी) की अंतिम सूची आने के बाद अब दिल्ली और मुंबई में भी एनआरसी लागू करने की मांग उठने लगी है। दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने दिल्ली में भी एनआरसी लागू करने की मांग है।

नई दिल्ली: असम में नेशनल सिटिजन रजिस्‍टर (एनआरसी) की अंतिम सूची आने के बाद अब दिल्ली और मुंबई में भी एनआरसी लागू करने की मांग उठने लगी है।दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने दिल्ली में भी एनआरसी लागू करने की मांग है। इसे लेकर वह गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे।

मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली में भी राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर तैयार करने की जरूरत है, क्योंकि स्थिति खतरनाक होती जा रही है। अवैध अप्रवासी जो यहां बस गए हैं, वे सबसे खतरनाक हैं, हम यहां भी एनआरसी को लागू करेंगे।

यह भी पढ़ें…एनआरसी पर सोनिया के घर हुई बैठक, कांग्रेस ने रखी ये दो बड़ी मांगे

इसके अलावा शिवसेना ने मुंबई में भी एनआरसी लागू करने की मांग की है। शिवसेना के नेता अरविंद सावंत ने कहा है कि मुंबई में भी एनआरसी लागू करनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि हमने भी अवैध तरीके से रह रहे बांग्‍लादेशियों का मुद्दा उठाया है।

शिवसेना नेताकहा कि पहले असम में कामयाब होने के बाद मुंबई में भी एनआरसी को लागू करना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि असम में एनआरसी के जरिये अब यह पता चलेगा कि वहां बाहर के कितने लोग रहते हैं। एनआरसी सूची जारी करने का निर्णय सरकार का सराहनीय कदम है। यह देश की सुरक्षा, एकता और अखंडता के लिए यह जरूरी है।

यह भी पढ़ें…असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए हजारों पदों पर वैकेंसी, डेढ़ लाख से ज्यादा है सैलरी

बता दें कि असम में बहुप्रतीक्षित नेशनल सिटिजन रजिस्‍टर (एनआरसी) की अंतिम सूची शनिवार को ऑनलाइन जारी कर दी गई। इसमें करीब 19.07 लाख आवेदकों को बाहर रखा गया है।