×

नए युग का आरंभ, अब अटल दर्शन पर चलेगा नया भारत

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Aug 2018 3:20 PM GMT

नए युग का आरंभ, अब अटल दर्शन पर चलेगा नया भारत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

संजय तिवारी

भारतवर्ष के लिए एक नए युग की शुरुआत हो चुकी है। देश अभी तक गांधीवाद, नेहरूवाद, इंदिरावाद, कांग्रेसवाद, समाजवाद, सेक्युलरवाद आदि वादों और दर्शन को लेकर चल रहा था। गांधी की बात सभी करते रहे लेकिन उसे पर चला कोई नहीं क्योकि कही कही गांधी को भी पूर्ण स्वीकारोक्ति नहीं मिल पायी। यह अलग बात है कि गांधी को विश्वपटल पार अहिंसा के दर्शन के लिए स्थापना दी गयी। दुनिया ने उनको स्वीकार किया। गांधी के बड़े बड़े अनुयायी भी हुए लेकिन गांधी दर्शन भारत का समग्र दर्शन नहीं बन सका। अब यहाँ महादेश एक ऐसे व्यक्ति के विचारो में डूब -उतरा रहा है जिनका नाम है अटल बिहारी बाजपेयी। नया भारत अब अटल दर्शन को ही अंगीकार कर अपना नया सफर तय करने जा रहा है।

अटल दर्शन पर आगे बढ़ रहे नए भारत की इस यात्रा का आरम्भ हो चुका है। अटल बिहारी बाजपेयी की दैहिक अनुपस्थिति में अब उनके शब्द मन्त्र की भूमिका में आ गए हैं। भारतीय लोकतंत्र के लिए अब अन्य सभी दर्शनों से ज्यादा अटल दर्शन ही प्रासंगिक बन रहा है। अटल जी की सनातन के प्रति विशवास, सत्य पर भरोसा, राजधर्म की स्पष्ट परिभाषा और लोकतांत्रिक परंपरा में मतभेद और मनभेद के बावजूद राजनैतिक मित्र भाव की उनके नीति ही इस देश और यहाँ के लोकतंत्र को आगे ली जा सकती है। वैसे भी देश की नयी पीढ़ी के सामने एक पथविचलन जैसा दृश्य उभर कर आ गया था। अटल जी के निधन के बाद उनके लिए उपजी सहानुभूति और उनके अजातशत्रु व्यक्तित्व के सामने आते ही नयी पीढ़ी को जैसे वह आदर्श मिल गया जिसकी तलाश वह अन्य व्यक्तियों में कर रही थी।

अटल जी पिछले नौ वर्षो से अचर्चित थे। कही उनका नाम नहीं था। इन नौ वर्षो में जिसने जन्म लिया वह तो उन्हें नहीं ही जान रहा था, उनके सक्रीय जीवन में नौ वर्ष पूर्व जन्मलिये बच्चो को भी उनकी याद धुंधली ही रही होगी। यह समग्र पीढ़ी कुछ और ही तरह से अपने आइकॉन तलाश रही थी। अटल जी के निधन के बाद से देश में जिस तरह से अटल चर्चा और अटलनीति पर विमर्श शुरू हुआ है उसने नयी पीढ़ी को इस तरफ बहुत ही सलीके से ध्यान खींचा है। इस चर्चा के साथ ही अटल जी के भाषण सर्च किये जा रहे हैं और खूब सुने जा रहे हैं। आज जिस रूप में अटल जी की चर्चा हो रही है उससे नया भारत बहुत ही प्रभावित है।

नए भारत के वास्तविक निर्माता के रूप में अटल जी याद किये जा रहे हैं। यह सही भी है। शेरशाह सूरी और ग्रांडट्रंक के बाद अटल जी तीसरे शासक हैं जिन्होंने इस महादेश के भूतल परिवहन के लिए क्रांतिकारी कार्य किया। उनकी दूरदृष्टि से ही आज देश में फोरलेन , सिक्सलेन की सड़के और एक्सप्रेसवे जैसे राजमार्ग हमें उपलब्ध हो सके हैं। भारतीय राजनीति में उनके 70 वर्षो का मूल्यांकन बहुत आसानी से नहीं किया जा सकता। उसके लिए वर्षो के शोध की आवश्यकता है। अटल जी का कवि , अटल जी का पत्रकार , अटल जी का राजनेता , अटल जी का प्रतिपक्ष और फिर पक्ष , अटल जी का शासक , अटल जी लोकमानव , अटल जी का महामानव , अटल जी का सनातन , अटल जी का हिंदुत्व , अटल जी का भारतीयपन , अटल जी का मनुष्य। इन सभी पर केवल कुछ शब्दों में कैसे लिखा जाय।

अटल जी एक युग हैं। उनके युग में जिन्होंने जी कर देखा उन्होंने उन्हें जाना। अब जब कि दुनिया बदल रही है और भारत विश्वशक्ति बन कर उभर रहा है ,ऐसे में अटल जी के दर्शन और सिद्धांत ही हैं जो भारत की प्रगति को अक्षुण्य बनाये रखेंगे। अटल जी की नीतियों पर चलने वाला भारत ही महान होगा। अटल जी के दर्शन को मानने वाला भारत ही विश्व विजय के पथ पर अग्रसर होगा। अटल दर्शन लेकर ही भारत बनेगा विश्वगुरु।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story