×

बाबा रामदेव ने केंद्र सरकार से की मांग: संन्यासियों को भी मिले भारत रत्न

योग गुरु बाबा रामदेव  ने भारत रत्न पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि यह दुर्भाग्य कि बात है पिछले 70 सालों में एक भी संन्यासी को भारत रत्न नहीं मिला है। इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे  ने सिद्धगंगा के महंत शिवकुमार स्वामी को भारत रत्न न दिए जाने पर नाराजगी जताई थी।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 27 Jan 2019 4:46 AM GMT

बाबा रामदेव ने केंद्र सरकार से की मांग: संन्यासियों को भी मिले भारत रत्न
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: योग गुरु बाबा रामदेव ने भारत रत्न पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि यह दुर्भाग्य कि बात है पिछले 70 सालों में एक भी संन्यासी को भारत रत्न नहीं मिला है। इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सिद्धगंगा के महंत शिवकुमार स्वामी को भारत रत्न न दिए जाने पर नाराजगी जताई थी।

उन्होंने कहा कि मैं प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न देने का स्वागत करता हूं, लेकिन शिवकुमार स्वामी जी ने शिक्षा के क्षेत्र में बहुत काम किया, उन्होंने अनाथ लोगों की शिक्षा के लिए काम करते हुए अपना जीवन गुजारा, उन्हें भारत रत्न का सम्मान मिलना चाहिए। उन्हें भारत रत्न न दिया जाना बहुत दुखद है।

ये भी पढ़ें...वाराणसीःभारत रत्न स्वर्गीय विस्मिलाह खान की 4 चांदी और 1 साधारण शहनाई थी

आपको बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, दिवंगत समाजिक कार्यकर्ता नानाजी देशमुख और दिवंगत गायक और संगीतकार भूपेन हजारिका शामिल हैं।

योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि मैं भारत सरकार से आग्रह करता हूं कि अगली बार महर्षि दयानंद सरस्वती, स्वामी विवेकानंद जी या शिवकुमार स्वामी जी में से कम से कम किसी संन्यासी को भी भारत रत्न दिया जाए।

ये भी पढ़ें...करियप्पा को भारत रत्न की सिफारिश का समय : सेना प्रमुख

वहीं कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि एक गायक और एक शख्स जो आरएसएस की विचारधारा का प्रचार करता था उसे भारत रत्न दिया गया है, यदि आप इनकी तुलना करें, तो शिवकुमार स्वामी जी को अवॉर्ड मिलना चाहिए था। गौरतलब है कि 21 जनवरी को सिद्धगंगा मठ के महंत शिव कुमार स्वामी का 111 साल की उम्र में निधन हुआ था। कर्नाटक में उन्हें ‘जीवित देवता’ के नाम से जाना जाता था।

दूसरी ओर खड़गे ने कर्नाटक में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम पर भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि बीजेपी चाहे जितनी भी कोशिश कर ले कर्नाटक की सरकार नहीं गिरेगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी-आरएसएस और केंद्रीय ताकतें कर्नाटक सरकार को चुनाव से पहले अस्थिर करने की कोशिश कर रही है।

ये भी पढ़ें...पंजाबः अकालियों ने राजीव गांधी की प्रतिमा पर पोती कालिख, भारत रत्न वापस लेने की मांग

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story