×

बिहार में बहार है! बीए के छात्र को एक पेपर में मिले 100 में से 151 अंक, 'प्रोडिकल साइंस' की दिला दी याद

Bihar News: बिहार के ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय (LNMU) से हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां के बीए के छात्र को अधिकतम अंक से ज्यादा नंबर प्राप्त हुआ है।

Network
Newstrack Network
Updated on: 4 Aug 2022 2:30 PM GMT
बिहार में बहार है! बीए के छात्र को एक पेपर में मिले 100 में से 151 अंक, प्रोडिकल साइंस की दिला दी याद
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Bihar News: बिहार के ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय (LNMU) से हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां के बीए के छात्र को अधिकतम अंक से ज्यादा नंबर प्राप्त हुआ है। 100 अंक के पेपर में उसे 151 नंबर दे दिया गया। जब इस बात का खुलासा हुआ यो विवि के सभी लोग दंग रह गए।

क्या कहना है छात्र का?

स्टूडेंट ने बताया कि वो बीए पार्ट 2 (BA Part 2) का छात्र है। विश्वविद्यालय द्वारा जारी रिजल्ट में उसे राजनीति विज्ञान (Political Science) के पेपर (4) में 100 में से 151 अंक दे दिए गए। बता दें कि, यह एक वैकल्पिक अंक पत्र (Optional Marksheet) है। बावजूद अधिकारियों को इसे जारी करने से पहले जांच करनी चाहिए थी।

यूनिवर्सिटी ने कहा- यह टाइपिंग की गलती है

शिकायत मिलने पर यूनिवर्सिटी की ओर से कहा गया कि, 'यह टाइपिंग की गलती (Typing Mistake) थी।' हालांकि विवि प्रशासन द्वारा संशोधित अंकपत्र जारी कर दिया। बता दे कि LNMU ने 30 जुलाई को स्नातक द्वितीय वर्ष का रिजल्ट जारी किया था इसके बाद द्वितीय वर्ष के एक स्टूडेंट का रिजल्ट अधिकतम अंक से अधिक आने के बाद चर्चा का विषय बना हुआ है सोशल मीडिया पर यह खूब वायरल हो रहा है।

एक अन्य छात्र को मिले 'शून्य' अंक

इतना ही नहीं एक अन्य छात्र (B.Com Part- 2) को लेखांकन और वित्त (पेपर-4) में जीरो नंबर दे दिया गया। इसके बाद जब छात्र ने इसकी शिकायत की तो विश्वविद्यालय प्रशासन (University Administration) ने फिर 'टाइपिंग एरर' (Typing Error) वाली बात दोहराई। हालांकि, इस छात्र का अंकपत्र सही कर दिया गया। इसके बाद उक्त छात्र को अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया गया।

क्या कहना है रजिस्ट्रार का?

इस पूरे मामले पर यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार प्रो मुश्ताक अहमद ने कहा कि, 'स्टूडेंट्स की शिकायत मिलने पर डाटा सेंटर की ओर से अंकपत्र को आधिकारिक वेबसाइट से हटा लिया गया। टाइपिंग की गलतियों को सुधारने के बाद दो छात्रों को नई मार्कशीट जारी की गई है।'

aman

aman

Next Story