बड़ा फैसला: BJP अब प्रत्याशियों के खाते में ही देगी रकम, नकद लेन-देन बंद

Published by aman Published: November 14, 2016 | 3:24 pm
Modified: November 14, 2016 | 11:19 pm
500, 1,000 के पुराने नोट रखने पर नहीं होगी जेल, कम से कम 10 हजार होगा जुर्माना

संजय तिवारी 
लखनऊ: काले धन को लेकर देश में नोटबंदी के बाद देश में मची अफरातफरी के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने एक और बहुत बड़ा फैसला लिया है। पार्टी की तरफ से दी जाने वाली रकम को अब पार्टी सीधे प्रत्याशी के खाते में डालेगी। अब पार्टी की तरफ से कोई भी काम नकद भुगतान से नहीं होगा, सभी काम बैंको के माध्यम से ही होगी। ऐसा ही प्रत्याशियों को भी करना होगा। कोई भी प्रत्याशी अब नकद खर्च नहीं कर पाएगा।

विपक्षियों को एक और सबक 
पार्टी के उच्च पदस्थ सूत्र बताते हैं की सैद्धान्तिक रूप से पार्टी ने यह निर्णय ले लिया है। इस पर अमल की प्रक्रिया भी जल्द शुरू कर दी जाएगी। बीजेपी का यह निर्णय ऐसे समय में आ रहा है जब उत्तर प्रदेश समेत देश के पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने हैं। सूत्र बताते हैं कि बीजेपी ने यह कदम उन दलों को सबक सिखाने के लिए उठाया है, जो नोटबंदी को लेकर हायतौबा मचा रहे हैं। बीजेपी पर अपने लोगों को बचाने समेत कई अनर्गल आरोप लग रहे हैं।

ये भी पढ़ें …PM बोले- मेरे एक फैसले से बेईमानों के लिए हिंदुस्तान में नहीं बचा कोई कोना

आगे की स्लाइड में पढ़ें बीजेपी का मास्टर …

उल्टा भी पड़ सकता है दाव 
जानकार बताते हैं कि यदि बीजेपी यह फैसला अमल में लाती है तो उन दलों के लिए बहुत मुश्किल होगी जो अब तक अरबों रुपए चंदा वसूल कर जमा कर चुके हैं और धन बल के आधार पर चुनाव जीतने की रणनीति बना चुके हैं। जानकारों के अनुसार यह भी संभव है कि इसका असर बीजेपी के लिए घातक हो। लेकिन इसके आसार कम ही हैं क्योंकि इस कदम को बीजेपी खूब भुनाएगी और आम जनता में इसका अच्छा संदेश जाएगा।

ये भी पढ़ें …PM मोदी का पलटवार- इमरजेंसी में देश आपको देख चुकी है, आपने क्या किया था

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर …

फिलहाल औपचारिक ऐलान नहीं
सूत्रों के अनुसार यह धनबल और बाहुबल की राजनीति के खिलाफ ऐसी सर्जिकल स्ट्राइक होगी जिसमें कई दलों का सफाया भी हो सकता है। हालांकि इस बारे में अभी पार्टी की तरफ से कोई औपचारिक ऐलान नहीं हुआ है लेकिन पार्टी के सूत्र इसकी पुष्टि करते हैं। इस आशय की रिपोर्ट्स कुछ संचार माध्यमो से भी मिल रही है।

ये भी पढ़ें …आजादी के बाद पहली बार मुस्कुराए गरीब, कालाधन रखने वालों की उड़ी नींद