×

भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में ब्लास्ट, 9 यात्री घायल, शुरुआती जांच में बारूद होने का पता चला

aman

amanBy aman

Published on 7 March 2017 7:04 AM GMT

भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में ब्लास्ट, 9 यात्री घायल, शुरुआती जांच में बारूद होने का पता चला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

भोपाल: कालापीपल में जबड़ी स्टेशन के पास मंगलवार (7 मार्च) की सुबह 10 बजे भोपाल-उज्जैन पैसेंजर (59320) ट्रेन के कोच में ब्लास्ट हुआ। इसमें करीब 9 लोग जख्मी हो गए। शुरुआती जांच में कोच से बारूद के होने का पता चला है। धमाके की वजह से ट्रेन की बोगी में एक बड़ा छेद हो गया है। ये ब्लास्ट ट्रेन के जनरल कोच में हुआ है। बताया जाता है कि घटनास्थल भोपाल से 70 किमी दूर है।

इस संबंध में रेलवे एसपी कृष्णा वेणी ने शुरुआती जांच में शॉर्ट सर्किट को धमाके की वजह बताया है। हालांकि उन्होंने सूटकेस में विस्फोटक होने के संकेत भी दिए हैं। अभी तक असली वजह का पता नहीं चल पाया है।

रेल मंत्रालय ने ट्वीट कर इस धमाके की जानकारी दी है।



बम निरोधक दस्ता रवाना

भोपाल डिविजन के पीआरओ आईए सिद्दीकी ने बताया कि 'अभी धमाके की वजह का पता नहीं चल पाया है। घायल यात्रियों को कालापीपल के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटनास्थल पर मेडिकल टीम भी भेजी गई है। उन्होंने बताया यह ब्लास्ट सुबह करीब 10 बजे हुआ। भोपाल से बम निरोधक दस्ता भी आ रहा है।'

घबराहट में कोच से कूदे

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि धमाके के बाद डिब्बे में अफरातफरी मच गई। कुछ लोग ट्रेन से कूद गए, इनमें कुछ बुजुर्ग भी थे। इन्हें चोटें आईं हैं। ब्लास्ट की आवाज सुनकर कई लोगों ने चेन खींचकर ट्रेन को रोका।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story