Top

डोकलाम विवाद के बावजूद रक्षा बजट में खास इजाफा नहीं, GDP में घटा हिस्‍सा

aman

amanBy aman

Published on 2 Feb 2018 5:39 AM GMT

डोकलाम विवाद के बावजूद रक्षा बजट में खास इजाफा नहीं, GDP में घटा हिस्‍सा
X
डोकलाम विवाद के बावजूद रक्षा बजट में खास इजाफा नहीं, GDP में घटा हिस्‍सा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: वित्त मंत्री ने गुरुवार को संसद में पेश 2018-19 के आम बजट को हालांकि संतुलित रखा लेकिन रक्षा बजट को ज्यादा नहीं बढ़ाया। वित्‍त मंत्री ने बजट में रक्षा खर्च में इजाफा तो किया है, लेकिन चीन के साथ डोकलाम विवाद के बाद इसके और बढ़ने की उम्‍मीद थी। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि रक्षा खर्च बढ़ा है, लेकिन जीडीपी में इसका हिस्‍सा घटा है।

आम बजट 2018-19 में रक्षा मंत्रालय को कुल 2,95,511 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया है, जो कुल बजटीय राशि का करीब 10 फीसदी है। जबकि यह राशि पिछले साल की तुलना में करीब 6 फीसदी अधिक है। रक्षा बजट देश के कुल बजट का 2.05 फीसदी है। बजट में वित्त वर्ष 2018-19 के लिए रक्षा मंत्रालय को वित्त वर्ष 2017-18 की तुलना में 7.81 फीसदी अधिक आवंटन किया गया है, जो 2,74,114 करोड़ रुपए है और संशोधित अनुमान 2,79,003 करोड़ रुपए से 5.91 फीसदी अधिक है।

किसी मंत्रालय या योजना के लिए 'बजट अनुमान' उस राशि को कहते हैं जो अगले वर्ष के लिए आवंटित किया जाता है, जबकि संशोधित अनुमान साल के मध्य में लगाए गए अनुमान को कहा जाता है।

रक्षा मंत्रालय को वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आवंटित 2,95,511 करोड़ रुपए में से 99,947 करोड़ रुपए पूंजीगत व्यय के लिए हैं, जो सेना के तीनों अंगों के आधुनिकीकरण पर खर्च किए जाएंगे। रक्षा क्षेत्र के राजस्व व्यय के लिए 1,95,947 करोड़ रुपए निर्धारित किए गए हैं, जिसमें वेतन, प्रतिष्ठानों के रखरखाव और अन्य संबंधित व्यय शामिल हैं। रक्षाकर्मियों के पेंशन के लिए इन आवंटनों से इतर 1,08,853 करोड़ रुपए की एक अलग राशि का प्रावधान किया गया है।

आईएएनएस

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story