बजट इफेक्ट: औंधे मुंह गिरा शेयर मार्केट, सेंसेक्स 850 तो निफ्टी में 270 की फिसलन

मोदी सरकार 2.0 का पहला बजट आने के बाद से घरलेू शेयर बजार में हाहाकर मचा है। शुक्रवार को गिरावट के साथ बंद होने के बाद सोमवार को भी शेयर बाजार में मातम कायम है। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 850 से ज्यादा अंकों की भारी भरकम गिरावट के साथ 38,654.84 पर आ गया है।

SENSEX

SENSEX

नई दिल्ली : मोदी सरकार 2.0 का पहला बजट आने के बाद से घरलेू शेयर बजार में हाहाकर मचा है। शुक्रवार को गिरावट के साथ बंद होने के बाद सोमवार को भी शेयर बाजार में मातम कायम है। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 850 से ज्यादा अंकों की भारी भरकम गिरावट के साथ 38,654.84 पर आ गया है। वहीं निफ्टी 270 से ज्यादा अंक लुढ़क कर 11, 540.80 पर पहुंच गया।

यह भी देखें… अनुसूचित जातियों के युवाओं को नौकरी देने के लिए यूपी सरकार करने जा रही कुछ ऐसा

वैसे तो बाजार में गिरावट का सिलसिला बजट के बाद से ही लगातार जारी है, लेकिन आज जिस तरह से शेयर मार्केट ने गोता खाया है, उससे निवेशक काफी परेशान हैं। शेयर मार्केट में बिकवाली की वजह से निवेशकों को 5000 हजार करोड़ का नुकसान हो गया है।

बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 37.01 अंकों की गिरावट के साथ 39,476.38 पर, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 40.75 अंकों की कमजोरी के साथ 11,770.40 पर खुला।

बजट वाले दिन शेयर मार्केट अच्छी तेजी के साथ खुला था। सेंसेक्स 100 अंकों से ज्यादा की उछाल के साथ 40,000 के पार हो गया है, वहीं निफ्टी में भी 32 अंको की तेजी देखी गई थी।

लेकिन बजट पेश होने के तुरंत बाद सेंसेक्स में 344.63 अंकों की गिरावट देखी गई थी और ये 0.86 फीसदी टूटकर 39,563.43 पर पहुंच गया था, वहीं निफ्टी में भी 123.25 अंकों की गिरावट देखी गई थी। ये गिरावट अभी तक लगातार जारी है।

यह भी देखें… लखनऊ: कांग्रेस सेवा दल की बैठक शुरू, राष्ट्रीय संगठक लालजी देसाई मौजूद

जानिए निजी निवेश पर सेंसेक्स का क्या होता है असर

अब यदि आप ने भी बाज़ार में निवेश किया है और आपके पास अपना एक पोर्टफोलियो है तो आप बाजार पर निरंतर नज़र तो रखते ही होंगे। अब यदि आपके शेयरों की क़ीमत इंडेक्स के अनुपात में अधिक बढ़ी है तो आप जान जाएँगे कि आपके निवेश का प्रदर्शन अच्छा है।

इसी प्रकार यदि आपके शेयरों की क़ीमत बाजार के इंडेक्स के अनुपात में कम बढ़ी है तो इसका मतलब आपके निवेश का प्रदर्शन बाजार के अनुपात में कम है। यदि आपका निवेश आपको इंडेक्स के अनुपात में कम रिटर्न दे रहा है तो बेहतर है आप निवेश के लिए स्वयं शेयरों का चुनाव ना करके इंडेक्स में शामिल शेयरों में उनके अनुभार के अनुसार निवेश कर दें।

यह भी देखें… सहारनपुर से लखनऊ जा रहे इंस्पेक्टर अरुण कुमार की कार का एक्सीडेंट, PGI में हुई मौत