×

Town planner Career: टाउन प्लानर में कैरियर

Town planner Career: इस क्षेत्र में दक्षता प्राप्त या प्रशिक्षण ले रहे लोगों की बड़ी जबर्दस्त मांग है।

Sarojini Sriharsha
Updated on: 2022-05-27T14:32:48+05:30
Town planner
X

टाउन प्लानर में कैरियर (Social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Town planner Career: हमारे देश मे लगातार बढ़ती हुई जनसंख्या और गांवों से शहर की तरफ लोगों के झुकाव के कारण शहरों में काफी भीड़ होती जा रही है। इस कारण शहरों में टाउन प्लानिंग अर्थात शहर योजना विभाग के अलावा बसावट के व्यवस्थित कार्यक्रमों पर अमल करने वाली एजेंसियों का विस्तार हो रहा है। इस वजह से इस क्षेत्र में दक्षता प्राप्त या प्रशिक्षण ले रहे लोगों की बड़ी जबर्दस्त मांग है। कैरियर का यह क्षेत्र यश और धन दोनों से भरपूर है। शहरी योजना कार्यक्षेत्र युवक एवं युवतियों दोनों वर्गों के लिए खुला हुआ है। इस क्षेत्र में सरकारी संस्थाओं के अलावा निजी क्षेत्र की काउंसलिंग एजेंसियां भी हैं।

एक प्लानर किसी शहर, ग्राम्य क्षेत्र या उपनगर के भावी ढांचे व स्वरूप की कल्पनागत योजनाओं का मूर्त रुप देता है। वह आबादी वृद्धि को ध्यान में रखते हुए सामाजिक आर्थिक कार्यकलापों को ठीक ढंग से चलाने के लिए सुरक्षित व सुविधाजनक क्षेत्रीय विकास की योजना बनाता है। वह माप और परीक्षण का मूलभूत खाका तैयार करके एक आदर्श शहर की योजना तैयार करता है। शुरुआत में वह क्षेत्र विषय की समस्या का अध्ययन करता है उसके बाद उसके निदान के लिए अनेक प्रस्ताव एवं परीक्षण का ढांचा तैयार करता है।

प्लानिंग तकनीशियन आंकड़े जुटाने , इंटरविविंग करके व फील्ड वर्क के कार्यों में प्रोफेशन प्लानर की मदद करते हैं। ड्राइंग बनाने के कार्य में भी इनकी सहायता ली जाती है। आंकड़े एकत्र करने का कार्य मुख्यतया सामाजिक अवलंब, आबादी, भूमि उपयोग, नक्शे आर्थिक इत्यादि की विस्तृत जानकारी प्राप्त करने से जुड़ा होता है। इनके जिम्मे आवास, यातायात की प्रकृति, शैक्षणिक सुविधाएं , पार्किंग, क्रीड़ा क्षेत्र इत्यादि के सर्वे का भी होता है। उनके पास ड्राइंग कार्यों में नक्शे तैयार करना तथा सूचिका सहित ग्राफिक्स तैयार करना भी होता है। इनका कार्यक्षेत्र वास्तव में बेहद विस्तृत है।

उदाहरण के लिए मकान मालिकों, किरायेदारों से भूमि उपयोग संबंधी जानकारी लेना प्रश्न सूची तैयार करना विभिन्न आवासीय संगठनों से जुड़ना इत्यादि।

प्लानिंग तकनीशियन अपनी मर्जी से डाटा प्रोसेसिंग, प्रशासन, व्यावसायिक शोध, जनसंपर्क इत्यादि किसी भी कार्य क्षेत्र को चुनकर उसमे विशेष योग्यता हासिल कर सकते हैं। यह कार्यक्षेत्र ऐसा है कि इसमें आंकड़े तैयार करके उसपर कार्य किया जाता है। अतः यह आवश्यक है कि उसका कार्य प्रदर्शन सटीक हो और उसकी योग्यता में कोई कमी न हो अन्यथा कार्य के नतीजे बिगड़ सकते हैं और एक योजना प्रभावित हो सकती है। इस क्षेत्र में प्रवेश पाने के लिए अमूमन शैक्षणिक योग्यताओं के तहत अंग्रेजी का अच्छा ज्ञान होना चाहिए। इसके अलावा गणित, सोशल स्टडीज एवं आर्ट विषय में अध्ययन किया हो। गणित का ज्ञान आंकड़े एकत्र करने के लिए जरूरी है इससे चार्ट बनाने के कार्य में परेशानी नहीं होगी। इसी तरह आर्ट का ज्ञान ड्राफ्टिंग नक्शा निर्माण इत्यादि कार्यों में सहायक साबित होगी। इस क्षेत्र में विशिष्ट शिक्षण नई दिल्ली के 'स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर' से प्राप्त किया जा सकता है।

प्लानिंग क्षेत्र में समय समय पर कई पद सृजित होते हैं तथा नियुक्तियां भी की जाती हैं। नगर निगम में भी नियुक्तियां होती है। इस क्षेत्र में प्रमुख पद हैं- हाउसिंग इंस्पेक्टर , रिसर्च असिस्टेंट, डिलाइनेटर या प्लानिंग डिजाइन, तकनीशियन प्लानिंग एसोसिएट, प्लानिंग ड्राफ्ट्समैन या कार्टोग्राफर, प्लानिंग कंप्यूटर प्रोग्रामर, जोनिंग तकनीशियन, प्लानिंग सिस्टम एनालिस्ट, मास्टर ड्राफ्टमैन, फील्ड एक्जीक्यूटिव असिस्टेंट, प्रॉपर्टी मैनेजमेंट इत्यादि।

इसके अलावा स्थानीय जन आवास अभिकरणों, भवन निरीक्षण विभागों सहित सामुदायिक सेवाओं से जुड़े निकायों में भी कार्य करने के कई अवसर है। प्रोफेशनल प्लानर एवं प्लानिंग तकनीशियन दोनों ही वर्गों में प्रायः नियुक्तियां भी की जाती है। पहले इन सब कार्यों के लिए विदेशों से विशेष कार्यदक्ष तकनीशियन बुलाए जाते थे मगर धीरे धीरे भारत में योजनाबद्ध शहरी विकास के साथ साथ टाउन प्लानिंग क्षेत्र अलग से गठित करके इस विभाग में कुशल लोगों की भर्ती की जाने लगी है।

यह कार्य क्षेत्र उन लोगों के लिए योग्य है जो स्वभाव से बहिर्मुखी हैं और नए नए लोगों से मिलकर खुश होते हैं।शहरी योजना कार्य से पूर्व आंकड़े एकत्र करने का कार्य जटिल तो है ही मगर यह एक प्रकार से विशिष्ट प्रकार की समाज सेवा भी है। इस कार्य क्षेत्र में आधे अधूरे तरीके से बसे हुए शहर उपनगर को व्यवस्थित ढंग से बसाने का कार्य आधुनिक समाजसेवा के प्रमुखतम कार्यों में से एक है।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story