×

ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- देश को लगने लगा है 'कमल का फूल हमारी भूल'

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि अब तो मतदाताओं को भी लगने लगा है कि उसने कमल के फूल को वोट देकर भूल की है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 29 Sep 2017 9:17 PM GMT

ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- देश को लगने लगा है कमल का फूल हमारी भूल
X
ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- देश को लगने लगा है 'कमल का फूल हमारी भूल'
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शिवपुरी: पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के सांसद ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को हर क्षेत्र में विफल सरकार करार दिया है और कहा है कि अब तो मतदाताओं को भी लगने लगा है कि उसने कमल के फूल को वोट देकर भूल की है।

सिंधिया ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश के शिवपुरी में कहा कि आज देश आर्थिक मुद्दे पर ही नहीं, विदेश नीति, अहिष्णुता, आतंरिक सुरक्षा सहित अन्य मुद्दों पर पीछे जा रहा है। केंद्र की नीतियों से देश में सब परेशान हैं और मोदी सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी है। अब तो सब कहने भी लगे हैं कि 'कमल का फूल हमारी भूल'।

वहीं उन्होंने मध्यप्रदेश की सरकार पर सिर्फ 'लाड़ली लक्ष्मी' की बात करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जो सरकार लड़कियों के खेल के लिए मैदान तक न दे सके, वह उनके लिए क्या करेगी, यह समझा जा सकता है।

यह भी पढ़ें .... दिग्विजय, कमलनाथ, सिंधिया सभी MP के CM बन सकते हैं : चिदंबरम

एक निजी स्कूल द्वारा यहां कराए जा रहे गर्ल्स क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए माधवराव सिंधिया खेल मैदान खेल विभाग ने इस प्रतियोगिता के फाइनल मैच के लिए देने से इनकार कर दिया, जबकि आयोजकों का दावा है कि इसकी विधिवत राशि देकर रसीद कटवा ली गई थी और अनुमति भी मिल गई थी।

सिंधिया ने इस मुद्दे पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि उन्हें अखबारों के माध्यम से यह पता चला है कि इस प्रतियोगिता के लिए पहले रसीद काटकर परमिशन दे दी गई थी, लेकिन बाद में मना कर दिया गया। आखिर यह यूटर्न क्यों?

यह भी पढ़ें .... ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जाहिर की चिंता, बोले- कांग्रेस को चेहरा आगे करना होगा

उन्होंने कहा कि महिलाओं को बढ़ावा देने के लिए यह अच्छा कार्यक्रम था, फिर भी खेल स्टेडियम क्यों नहीं दिया गया। एमपीसीए सहित अन्य मैच यहां होने वाले हैं, इसके बाद भी बच्चियों की क्रिकेट के लिए परमिशन न दिया जाना ठीक नहीं है।

प्रतियोगिता आयोजकों का कहना है कि उन्होंने अनुमति निरस्त करने पर खेल अधिकारी एम.के. धौलपुरी से बात की, तो वह कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए।

--आईएएनएस

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story