Top

जाधवपुर यूनिवर्सिटी से आया बड़ा मामला,जानिए दीक्षांत समारोह में स्टूडेंट ने क्या किया

पश्चिम बंगाल की जाधवपुर यूनिवर्सिटी में दीक्षांत समारोह में मंगलवार को एमए की डिग्री लेने के बाद नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में उसकी प्रति फाड़ दी गई। इंटरनेशनल रिलेशन की छात्रा देबोस्मिता चौधरी ने कहा कि यह मेरा विरोध करने का तरीका है।

suman

sumanBy suman

Published on 25 Dec 2019 4:00 PM GMT

जाधवपुर यूनिवर्सिटी से आया बड़ा मामला,जानिए दीक्षांत समारोह में स्टूडेंट ने क्या किया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोलकाता पश्चिम बंगाल की जाधवपुर यूनिवर्सिटी में दीक्षांत समारोह में मंगलवार को एमए की डिग्री लेने के बाद नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में उसकी प्रति फाड़ दी गई। इंटरनेशनल रिलेशन की छात्रा देबोस्मिता चौधरी ने कहा कि यह मेरा विरोध करने का तरीका है। छात्रा का कहना है कि उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि सीएए देश के सच्चे नागरिक को अपनी नागरिकता साबित करने के लिए बाध्य करता है।

यह पढ़ेंं...अरुंधती के ‘रंगा-बिल्ला’ बयान पर बोली BJP, पहले बुद्धिजीवियों का तैयार हो रजिस्टर

इस तरह लोग सीएए के खिलाफ तरह-तरह से विरोध जारी है। इस दौरान मंच पर कुलपति, उपकुलपति और रजिस्ट्रार मौजूद थे। छात्रा ने कहा, 'कोई संशय नहीं रहना चाहिए। वो जाधवपुर विश्वविद्यालय के प्रति कोई असम्मान नहीं दिखा रही हैं। इस पसंदीदा संस्थान से यह डिग्री मिलने पर वह गर्व महसूस कर रही है, लेकिन मैंने सीएए के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के लिए इस मंच का चुनाव किया। मेरे साथी दीक्षांत समारोह स्थल के द्वार पर धरने पर बैठे हैं।’

यह पढ़ेंं...दमन चक्र के खिलाफ वामदल 30 दिसंबर को राज्यपाल को ज्ञापन सौंपेंगे

देबोस्मिता चौधरी ने कहा कि उसके कुछ दोस्तों ने सीएए के विरोध में कुलपति से डिग्री लेने से मना कर दिया। एक अन्य विद्यार्थी ने कहा कि उसके 25 सहपाठी अपनी डिग्रियां लेने मंच पर नहीं पहुंचे। दिन में प्रदर्शनकारियों ने दीक्षांत समारोह में शामिल होने पहुंचे पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को विश्वविद्यालय में प्रवेश करने से रोका था।

suman

suman

Next Story