बेटियों को उतारा मौत के घाट, जालिम बने माता-पिता, हत्या के बाद झूमकर नाचे

दोनों दंपत्ति अपनी बेटियों के शरीर से दुष्टात्मा को निकालने का अनुष्ठान कर रहे थे। उन्होंने अपनी छोटी बेटी साई दिव्या को एक त्रिशूल की मदद से बड़ी बेरहमी के साथ उसके गले को काट दिया और अपनी बड़ी बेटी अलेख्या को एक डम्बल की मदद से हत्या कर दिया।

Published by Shraddha Khare Published: January 27, 2021 | 7:40 pm
superstitious parents

बेटियों को उतारा मौत के घाट, जालिम बने माता-पिता, हत्या के बाद झूमकर नाचे photos (social media)

नई दिल्ली : आज भी हमारे समाज में कई ऐसे पढ़े – लिखे लोग है जो अंधविश्वासी मान्यताओं से घिरे हुए हैं। आंध्र प्रदेश (andhra pradesh) के मदनपल्ली में एक घटना सामने आई है। जिसमें सगे माता -पिता ने अपनी ही दोनों बेटियों का बड़ी बेरहमी से हत्या कर दिया। जब पुलिस ने हत्या की पूछताछ की तो मृत बेटियों की मां पुलिस पर जोरों से चिल्लाने लगी और कहा कि पुलिस ने उनकी मृत बेटियों को फिर से जीवित करने के अनुष्ठान को बाधित कर दिया है।

माता -पिता ने की अपनी बेटियों की हत्या

आंध्र प्रदेश की इस घटना ने पूरे देश को दहला कर रख दिया है। कोई सगे माता पिता अपनी बेटियों को इतनी दरिंदगी के साथ कैसे मार सकते हैं। आपको बता दें कि दोनों दंपत्ति अपनी बेटियों के शरीर से दुष्टात्मा को निकालने का अनुष्ठान कर रहे थे। उन्होंने अपनी छोटी बेटी साई दिव्या को एक त्रिशूल की मदद से बड़ी बेरहमी के साथ उसके गले को काट दिया और अपनी बड़ी बेटी अलेख्या को एक डम्बल की मदद से हत्या कर दिया। दोनों बेटियों के नग्न शव को खून से लथपथ थे। वहीं पिता पुरुषोत्तम सोफे पर बैठे समाधि कर रहे थे।

पूरा परिवार बड़ा शिक्षित था

पुलिस ने इन दोनों दंपत्तियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुरुषोत्तम के पड़ोसी ने बताया कि यह दोनों दंपत्ति अपनी दोनों बेटियों के साथ चित्तूर में रहते थे। पिछले साल अगस्त में यह पूरा परिवार यहां रहने आया था। आपको बता दें कि यह पूरा परिवार अंधविश्वासी था। मृत दोनों बेटियां भी अंधविश्वास से घिरी हुई थी। इस परिवार के लोग काफी पढ़े लिखे थे पुरुषोत्तम मदनपल्ली के गवर्नमेंट कॉलेज के केमेस्ट्री डिपार्टमेंट के एसोसिएट प्रोफेसर थे। उनकी पत्नी पद्मजा एक कॉर्पोरेट स्कूल की प्रिंसिपल थी। इसके साथ बड़ी बेटी अलेख्या भारतीय वैन प्रबंधन की छात्रा थी और छोटी बेटी साई दिव्या बीबीए की छात्रा थी।

Madanapalle news

यह भी पढ़ें: फीका पड़ा किसान आंदोलन: बढ़ती टकरार से अलग हुए संगठन, खत्म करने का ऐलान

पूरा परिवार अंधविश्वासी

कोरोना संक्रमण को लेकर मां पद्मजा ने कहा की कोरोना चीन से नहीं आया है वह शिव से निकला है। कहा कि मैं शिव हूं मार्च तक यह महामारी चली जाएगी। रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने बताया कि पूरा परिवार घोर अंधविश्वासी है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App