कर्नाटक में सरकार पर आया संकट, आगे का डेवलपमेंट…

कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायकों को मनाने की हर संभव कोशिश की जा रही है। अब गठबंधन सरकार की ओर से इनमें से कई विधायकों को मंत्री पद देने का वादा किया जा रहा है।

KARNATAK

KARNATAK

नई दिल्ली : कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। कर्नाटक विधानसभा से अब तक 11 विधायक इस्तीफ़ा दे चुके हैं। इस्तीफ़ा देने वालों में 8 विधायक कांग्रेस के जबकि तीन विधायक जेडीएस के हैं। ये सभी विधायक मुंबई पहुंच चुके हैं, जहां उन्हें सोफिटेल होटल में ठहराया गया है।

विदेश से लौटे मुख्यमंत्री

अपनी सरकार को खतरे में देखकर मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी रविवार को विदेश से लौट आए। कहा जा रहा है कि सोमवार को वह एक आपातकालीन बैठक बुला रहे हैं, जिसमें वह कुछ मंत्रियों से इस्तीफा लेकर बागियों के लिए जगह बनाने की कोशिश करेंगे। राज्य के डेप्युटी सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डी. के. शिवकुमार ने कहा है कि सरकार बचाने के लिए वह खुद भी मंत्री पद से इस्तीफा देने को तैयार हैं।

यह भी देखें… कर्नाटक: सरकार बनाने का मौका बीजेपी के पास, येदियुरप्पा की निगाह सत्ता पर

‘बीजेपी में शामिल होंगे सभी 13 विधायक’

वहीं, मुंबई के होटल में ठहरे 10 बागी विधायकों का कहना है कि बाकी के तीन विधायक भी सोमवार को उनके साथ आ जाएंगे। इन विधायकों का कहना है कि अब वापस जाने का कोई सवाल ही नहीं है। विधायक प्रताप गौड़ा ने कहा है कि सभी 13 विधायक भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल होंगे।

अब गेंद विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश के पाले में हैं, जोकि मंगलवार को इन विधायकों के इस्तीफे पर फैसला लेंगे। कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने मंगलवार को सुबह 9:30 कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई है, जिसके लिए विप भी जारी किया गया है। इस बैठक में बागी विधायकों को भी शामिल होने को कहा गया है। इस बारे में एक कांग्रेसी विधायक ने कहा कि इस मीटिंग में शामिल ना होने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। जेडीएस ने भी सोमवार को अपने विधायकों की बैठक बुलाई है।

सूत्रों के मुताबिक, दोनों पार्टियां मीटिंग के बाद अपने विधायकों को किसी रिजॉर्ट में भेज सकती हैं, जिससे इनपर बीजेपी डोरे ना डाल सके। वहीं, दूसरी ओर बीजेपी ने भी सोमवार शाम 5 बजे विधायकों की बैठक बुलाई है। कहा जा रहा है कि पलटवार की आशंका देखते हुए बीजेपी ने अपने 105 विधायकों के लिए 30 कमरे बुक कराए हैं। बीजेपी यह भी कह रही है कि इस सबमें उसका कोई हाथ नहीं है। कर्नाटक बीजेपी अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने कहा है कि वह राज्यपाल से मिलने नहीं जा रहे हैं और विधानसभा अध्यक्ष के फैसले का इंतजार करेंगे।

यह भी देखें… बिजनौर: हीमपुर थानाक्षेत्र के मुबारकपुर में तेन्दुए की दहशत, एक मजदूर पर किया हमला

बीजेपी पर लगाया आरोप

बीजेपी के दावों को खारिज करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘ज्यादातर बागी विधायक खुद से मुंबई नहीं गए हैं। उसमें से कुछ हमारे विधायकों के संपर्क में हैं और लौट आएंगे।’ बीजेपी पर आरोप लगाते हुए खड़गे ने कहा, ‘बागी विधायकों ने मुंबई के लिए स्पेशल फ्लाइट का इंतजाम कैसे किया? क्या उनके पास इतने पैसे हैं?’

रविवार को सरकार बचाने के प्रयासों के मद्देनजर मल्लिकार्जुन खड़गे, कर्नाटक कांग्रेस इंचार्ज केसी वेणुगोपाल, जी परमेश्वर और एमबी पाटिल ने लगातार कई बैठकें कीं और फैसला लिया कि बागियों को मंत्री पद देकर मनाया जाए। ये नेता लगातार एच डी देवगौड़ा के संपर्क में भी रहे। सूत्रों के मुताबिक, सभी बागियों को मनाने की बजाए गठबंधन के नेता बेंगलुरु के चार विधायकों (एस टी सोमशेखर, ब्यार्ती बासवारजु, एन मुनिरत्ना और रामलिंगा रेड्डी) को मनाने पर ध्यान दे रहे हैं।