×

Delhi MCD Election 2022: भाजपा ने बढ़ाया अपना वोट शेयर

Delhi MCD Election 2022: दिल्ली नगर निगम चुनाव में आप ने अपने प्रदर्शन की तुलना में अपने वोट शेयर में वृद्धि करने में कामयाब रही। वहीं भाजपा ने भी अपना वोट बढ़ाया है।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Updated on: 7 Dec 2022 2:24 PM GMT
BJP
X

BJP to Retain Power in Himachal Pradesh ( Image: Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

MCD Election 2022: दिल्ली नगर निगम चुनाव में जहां आम आदमी पार्टी 2017 के एमसीडी चुनावों में अपने प्रदर्शन की तुलना में अपने वोट शेयर में उल्लेखनीय वृद्धि करने में कामयाब रही। वहीं इस बार कम सीटों जीतने के बावजूद भाजपा ने भी अपना वोट बढ़ाया है।

नगर निगम चुनावों में आप का वोट शेयर 42 फीसदी

नगर निगम चुनावों में आप का वोट शेयर 42 फीसदी है, जो 2017 के एमसीडी चुनाव में 26 फीसदी वोट शेयर से काफी ऊपर है। यह वृद्धि अपेक्षित है क्योंकि पिछले चुनावों में 272 सीटों में सिर्फ 48 सीटों पर जीत हासिल करने वाली आम आदमी पार्टी ने इस वर्ष 250 सीटों में से 134 सीटें जीतीं हैं। वहीं, भले ही भाजपा की टैली 2017 के 272 में से 181 वार्डों से इस बार 250 में 104 तक गिर गई है लेकिन इस साल उसका वोट शेयर 36 फीसदी से बढ़कर 39 फीसदी हो गया है।

एमसीडी में सीटों की कुल संख्या 272 से घटकर हुई 25

बता दें कि इस बार तीन नागरिक निकायों - दक्षिण, उत्तर और पूर्व - को एक एमसीडी में एकीकृत करने के कारण सीटों की कुल संख्या 272 से घटकर 250 हो गई है। इस बीच, कांग्रेस का वोट शेयर 21 फीसदी से घट कर 12 फीसदी हो गया है। ये दर्शाता है कि आप और भाजपा, दोनों ने कांग्रेस के वोट शेयर को अपने पक्ष में खींच लिया है।

वैसे तो मतदाता विधानसभा चुनावों और नगरपालिका चुनावों में अलग तरह से सोचते हैं और मतदान करते हैं। इसी वजह से परिणाम शायद ही कभी समान पैटर्न दिखाएं लेकिन यह ध्यान रखना दिलचस्प है कि 2022 के नगरपालिका चुनावों में आप का वोट शेयर 2020 के राज्य विधानसभा चुनावों में उसके वोट शेयर (54 फीसदी) से काफी कम है।

2020 के विधानसभा चुनावों के प्रदर्शन के समान

दूसरी ओर, नगर निगम चुनावों में भाजपा का वोट शेयर मोटे तौर पर 2020 के विधानसभा चुनावों के प्रदर्शन (41 फीसदी) के समान है। तीन प्रमुख दलों में कांग्रेस एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसका 2020 और 2015 के विधानसभा चुनावों (क्रमशः 12 फीसदी और 10 फीसदी) की तुलना में नगरपालिका चुनावों में बेहतर वोट शेयर रहा है। ये दर्शाता है कि भले ही कांग्रेसी प्रत्याशी हार गए लेकिन लोगों ने नगरपालिका चुनावों में अपने स्थानीय कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए मतदान करना जारी रखा है।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story