×

LAC पर अमनः भारत चीन की सेनाओं के पीछे हटने से खुला बातचीत का रास्ता

भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच पैंगोंग त्सो में सेना के पीछे हटने की प्रक्रिया शुरू करने की सहमति के एक सप्ताह बाद यह शुरुआत दोनों देशों की बातचीत से समस्या के समाधान की इच्छाशक्ति दिखा रहा है। दोनो सेनाएं निर्धारित प्रक्रिया के तहत पीछे हट रही हैं।

Dharmendra kumar
Updated on: 16 Feb 2021 3:05 PM GMT
LAC पर अमनः भारत चीन की सेनाओं के पीछे हटने से खुला बातचीत का रास्ता
X
अगस्त 2020 में पैंगोंग त्सो के दक्षिण बैंक पर कार्रवाई के बीच, सामरिक लाभ हासिल करने के लिए, भारतीय सेना ने फिंगर 4 के आस-पास भी स्थितियां स्थापित की थीं।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

रामकृष्ण वाजपेयी

भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग त्सो झील के उत्तर और दक्षिण तट पर चल रही सेना के पीछे हटने की प्रक्रिया के दृश्य साझा किए हैं। ये बहुत ही सकारात्मक संकेत हैं खासकर तनावग्रस्त एलएसी पर।

भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच पैंगोंग त्सो में सेना के पीछे हटने की प्रक्रिया शुरू करने की सहमति के एक सप्ताह बाद यह शुरुआत दोनों देशों की बातचीत से समस्या के समाधान की इच्छाशक्ति दिखा रहा है। दोनो सेनाएं निर्धारित प्रक्रिया के तहत पीछे हट रही हैं।

चीनी सैनिकों ने पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट पर फिंगर 4 क्षेत्र को खाली करना शुरू कर दिया है। अधिकारियों के अनुसार, '' यहां तक कि चीन के विशाल मानचित्र को, जिसे पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा फिंगर 5 क्षेत्र के पास जमीन पर उकेरा गया था, उनके द्वारा उसे भी साफ कर दिया गया है। यह नक्शा दोनों देशों की सेनाओं के बीच गतिरोध की ऊंचाई के दौरान उपग्रह चित्रों में देखा गया था। ”

ये भी पढ़ें...मुंबई होगी लॉकडाउन! तेजी से बढ़ रहे कोरोना केसेस, फिर आ सकती है बड़ी आफत

फिंगर 4 के करीब हल्के और भारी हथियारों की थी तैनाती

फिंगर 8 से फिंगर 4 के बीच चीनी सैनिकों द्वारा भारी निर्माण किये गए थे सुरक्षा बंकर बनाए गए थे, इसमें फिंगर 4 के करीब हल्के और भारी हथियारों की तैनाती भी शामिल थी जो भारतीय पोजिशन को नजरअंदाज कर रहे थे।

LAC

अगस्त 2020 में पैंगोंग त्सो के दक्षिण बैंक पर कार्रवाई के बीच, सामरिक लाभ हासिल करने के लिए, भारतीय सेना ने फिंगर 4 के आस-पास भी स्थितियां स्थापित की थीं। अधिकारियों के मुताबिक यह प्रक्रिया इस सप्ताह के अंत तक पूरी होने की उम्मीद है और सेना के पीछे हटने का काम अच्छी गति से हो रहा है। जिन भारी उपकरणों का यहां जमाव किया गया था, इनको भी दोनों पक्षों द्वारा हटाने का काम चल रहा है।

इस काम के पूरा होने के बाद अगले अगले सप्ताह होने वाली बातचीत में गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स पर तनाव के बिंदुओं और अगले चरण की सेना वापसी की प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। खबरों के मुताबिक, 15 और 17A के गश्त क्षेत्र से भी सेना के वापसी शुरू हो गई है। इसका मतलब है, वहाँ से जल्द ही पूरी तरह सेना हट जाएगी।

ये भी पढ़ें...पेट्रोल बम से दहला अमृतसर: धार्मिक स्थल को बनाया निशाना, पुलिस हाई अलर्ट पर

बातचीत की अलग से तैयारी

पिछले जून और जुलाई में अधिकांश सैनिकों को पीपी 15 और 17A से डिसइंगेजमेंट की प्रक्रिया के दौरान वापस बुला लिया गया था। लेकिन अगस्त 2020 के उत्तरार्ध में झील के दक्षिणी किनारे पर दोनों पक्षों के बीच फिर तनाव बढ़ गया और यह प्रक्रिया गड़बड़ा गई। इस सकारात्मक पहल से ये उम्मीद की जा रही है कि अब डेपसांग के पुराने और जटिल मसले को भी बातचीत से ही सुलझा लिया जाएगा। इसके लिए बातचीत की अलग से तैयारी की जा रही है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story