×

डॉ स्वाति मोहनः मंगल पर NASA का रोवर पहुंचाने में बड़ा योगदान, जानें इनके बारे में

नासा का परसेवरेंस रोवर (Perseverance Rover) धरती से टेकऑफ करने के सात महीने बाद शुक्रवार को सफलतापूर्वक मंगल ग्रह पर लैंड हो गया है। इस लैंडिंग पर भारतीय मूल की वैज्ञानिक डॉ स्वाति मोहन का सबसे बड़ा योगदान माना जा रहा है।

Shraddha Khare
Updated on: 19 Feb 2021 7:06 AM GMT
डॉ स्वाति मोहनः मंगल पर NASA का रोवर पहुंचाने में बड़ा योगदान, जानें इनके बारे में
X
डॉ स्वाति मोहनः मंगल पर NASA का रोवर पहुंचाने में बड़ा योगदान, जानें इनके बारे में photos (social media)
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

अमेरिका : मंगल ग्रह पर इन दिनों कई शोध होते हुए दिख रहे हैं। वहीं अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA ) का परसेवरेंस रोवर (Perseverance Rover) सात महीने बाद शुक्रवार को मंगल ग्रह पर लैंड हो गया है। इस खबर से नासा के सभी वैज्ञानिक बेहद खुश हैं। आपको बता दें कि परसेवरेंस रोवर मंगल ग्रह पर भारतीय समय के अनुसार 2 बजकर 25 मिनट पर सफलतापूर्वक लैंड हुआ है।

सात महीने बाद परसेवरेंस रोवर मंगल ग्रह पर हुआ लैंड

नासा का परसेवरेंस रोवर (Perseverance Rover) धरती से टेकऑफ करने के सात महीने बाद शुक्रवार को सफलतापूर्वक मंगल ग्रह पर लैंड हो गया है। इस लैंडिंग पर भारतीय मूल की वैज्ञानिक डॉ स्वाति मोहन का सबसे बड़ा योगदान माना जा रहा है। आपको बता दें कि इनके बदौलत ही नासा को इतना बड़ा इतिहास रचने का मौका मिला है।

वैज्ञानिक डॉ स्वाति मोहन

भारतीय मूल की वैज्ञानिक डॉ स्वाति मोहन ने परसेवरेंस रोवर को मंगल ग्रह पर सफतापूर्वक लैंडिंग के दौरान कहा कि " मंगल ग्रह पर अब टचडाउन की पुष्टि हो चुकी है। अब मंगल ग्रह पर जीवन के संकेतों की तलाश करने को तैयार है। " आपको बता दें कि जब सारी दुनिया सात महीने से परसेवरेंस रोवर को मंगल ग्रह पर लैंडिंग का इंतजार कर रही थी उस वक्त यह वैज्ञानिक प्रोजेक्ट टीम के साथ कॉर्डिनेट कर रही थी।

ये भी पढ़े......ममता की जीत मुश्किल! शाह के बंगाल दौरे से बढ़ी चिंता, अब ये 5 दिग्गज छोड़ेंगे पार्टी

mars

डॉ स्वाति मोहन नासा के विभिन्न मिशनों का हिस्सा रही

भारतीय मूल की वैज्ञानिक डॉ स्वाति मोहन ब्रह्मांड में नए और सुंदर स्थान ढूंढना चाहती थी। इन्होंने एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल की थी इसके साथ इन्होंने अपनी पीएचडी पूरी की। आपको बता दें की स्वाति मोहन जेट प्रोप्लशन प्रयोगशाला में शुरू से ही मार्स रोवर मिशन की सदस्य रही है। यह अमेरिका की नासा के विभिन्न मिशनों का हिस्सा रही है।

ये भी पढ़े......स्वीडन की कंपनी यूपी में खोलेगी अपने आउटलेट्स, करेगी 5500 करोड़ निवेश

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shraddha Khare

Shraddha Khare

Next Story