×

दवाइयां महंगी होंगीः Medicine Price बढ़ने वाले हैं अप्रैल से, कम्पनियां देंगी झटका

नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (National Pharmaceutical Pricing Authority) ने दवाइयों के मूल्य वृद्धि के बारे में जानकारी देते हुए बताया, “सरकार की तरफ से 2020 के लिए डब्ल्यूपीआई में 0.5 फीसदी का एनुअल चेंज नॉटिफाई हुआ है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 20 March 2021 6:51 AM GMT

दवाइयां महंगी होंगीः Medicine Price बढ़ने वाले हैं अप्रैल से, कम्पनियां देंगी झटका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: ईधन के बढ़ते दामों के बीच आम आदमी को अब महंगी दवाइयों की भी मार झेलनी पड़ेगी। बता दें कि सरकार ने होलसेल प्राइस इंडेक्स में लगभग 0.5 फीसदी की वृद्धि करने की अनुमति दी है। जानकारी के मुताबिक, अप्रैल से सभी दर्द निवारक दवाइयां महंगी हो सकती हैं। इसकी जानकारी नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (National Pharmaceutical Pricing Authority) ने दी है।

किन दवाओं की बढ़ी कीमत

बीते शुक्रवार को नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (National Pharmaceutical Pricing Authority) ने दवाइयों के मूल्य वृद्धि के बारे में जानकारी देते हुए बताया, “सरकार की तरफ से 2020 के लिए डब्ल्यूपीआई में 0.5 फीसदी का एनुअल चेंज नॉटिफाई हुआ है। दर्द निवारक दवाइयां, एंटीइंफ्लाटिव (Antiinflammatory), कार्डियक (Cardiac) और एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) सहित आवश्यक दवाओं की कीमतें अप्रैल से बढ़ सकती हैं।

क्या कहती है फार्मा इंडस्ट्री

वहीं फार्मा इंडस्ट्री (Pharma Industry) ने बताया, “ विनिर्माण लागत (Manufacturing cost) में 15 से 20 फीसदी की वृद्धि हुई है, यही वजह है कि कंपनिया कीमतों में 20 फीसदी बढ़ोतरी की योजना बना रही है।” आपको बता दें कि हर वर्ष होलसेल प्राइस इंडेक्स के अनुसार दवाइयों के कीमतों में बढ़ोतरी की जाती है।

medicines

ये भी पढ़ें... सोना 45000 के नीचे: ज्वेलरी खरीददारी का अच्छा मौका, आगे हो सकता है महंगा

चीन से आते है दवाओं के कच्चे माल

भारत कुछ दवाइयों के लिए चीन पर निर्भर है। कोरोना महामारी के कारण चीन ने पिछले साल भारतीय आयातकों की कॉस्ट बढ़ा दी थी। 2020 के बीच में चीन ने जब सप्लाई शुरू की तो उसमें 10 से 20 फीसदी तक की वृद्धि कर दी। दवा कारोबारियों का कहना है कि दवा के लिए कच्चा माल तो सिंगापुर और जर्मनी से भी मंगाया जाता है , लेकिन इनके कॉस्ट ज्यादा होने के कारण ज्यादातर कंपनियां चीन से ही कच्चा माल खरीदती है, जिसमें से सबसे ज्यादा कच्चा माल एंटीबायोटिक दवाओं का कच्चा माल शामिल है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।न

Newstrack

Newstrack

Next Story