उत्तराखंड में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 5.2 मापी गई तीव्रता

भारत-नेपाल सीमा पर गुरुवार रात करीब साढ़े दस बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.2 बताई जा रही है। उत्तराखंड के धारचूला से 26 किमी दूर इस भूकंप का केंद्र बताया जा रहा है।

देहरादून: भारत-नेपाल सीमा पर गुरुवार रात करीब साढ़े दस बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.2 बताई जा रही है। उत्तराखंड के धारचूला से 26 किमी दूर इस भूकंप का केंद्र बताया जा रहा है। भूकंप के बाद लोगों में दहशत फैल गई है।

हालांकि अभी तक किसी जान-माल के नुकसान की खबर नहीं आई है। श्रीनगर, चमोली और बागेश्वर में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। वहीं गढ़वाल और अल्मोड़ा सहित उत्तराखंड के कुई और हिस्सों में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए।

बता दें कि हिमाचल प्रदेश के कई हिस्सों में भी गुरुवार सुबह करीब चार बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। रिक्टर पैमाने पर 3.3 तीव्रता का भूकंप दर्ज किया गया। हालांकि इससे जान और माल की कोई हानि नहीं हुई है। भूकंप का केंद्र कुल्लू क्षेत्र रहा। हिमाचल से सटे मंडी जिले में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए।

इस वजह से आते हैं भूकंप
धरती के भीतर सात टेक्टोनिक प्लेट हैं। ये लगातार घूमती रहती हैं। जहां प्लेटें टकराती हैं उसे फॉल्ट लाइन कहते हैं। लगातार टकराने से प्लेटों के कोने मुड़ जाते हैं। दबाव ज्यादा होने से ये टूटती रहती हैं। इससे पैदा हुई ऊर्जा बाहर आती है। इसी वजह से जमीन हिलती है। उल्लेखनीय है कि 2015 में नेपाल भूकंप की भयानक विनाशलीला झेल चुका है। तब यहां 7.9 तीव्रता का भूकंप आया था, जिसमें 8 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी।