×

उत्तराखंड में भूकंप के झटके से बढ़ा और 'बड़े भूकंप' का खतरा

aman

amanBy aman

Published on 13 Feb 2018 10:07 AM GMT

उत्तराखंड में भूकंप के झटके से बढ़ा और बड़े भूकंप का खतरा
X
उत्तराखंड में भूकंप के झटके से बढ़ा बड़े भूकंप का खतरा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

उत्तरकाशी: साल 2017 में भूकंप के तीन झटकों के बाद से बड़े पैमाने पर भूगर्भीय गतिविधि की सक्रियता और भारतीय टेक्टानिक प्लेट की सीमा पर इस क्षेत्र के स्थित होने से यहां भूकंप का खतरा बढ़ गया है। बता दें, कि सोमवार की सुबह उत्तरकाशी जिले में 3.2 क्षमता का भूकंप का झटका महसूस किया गया था। इससे किसी तरह की हानि की सूचना नहीं है। हाल ही में क्षेत्र में आय़े झटकों में यह सबसे ताजा है।

इस झटके के आने के बाद से लोगों में भविष्य में शक्तिशाली झटकों के आने का डर बढ़ गया है। भारतीय वैज्ञानिकों के एक समूह ने गत वर्ष यह महसूस किया था कि उत्तराखंड में 7 या उससे अधिक क्षमता के भूकंप के आने का खतरा बना हुआ है। यह पहाड़ी राज्य हिमालयन फ्रंट के उस सेंट्रल सेसमिक गैप के हिस्से पर स्थित है जहां पिछले 200 से 600 साल में कोई बड़ा भूकंप नहीं आया है।

भूकंपीय गतिविधियां भूस्खलनों का कारण

साल 1991 में क्षेत्र को हिलाने वाले भूकंप से भी बड़े भूकंप का झटका यहां आने की बहुत अधिक संभावना बनी हुई है। तब 6.6 क्षमता के कम तीव्रता के भूकंप ने गढ़वाल में भारी तबाही मचायी थी। देहरादून और अल्मोड़ा जैसे शहर इससे प्रभावित हुए थे। तब से लेकर अब तक क्षेत्र में 58 भूकंप के झटके आ चुके हैं और आधिकारिक रूप से 769 लोगों की मौत हो चुकी है। भूकंपीय गतिविधियां यहां भूस्खलनों का कारण बन रही हैं।

विशेषज्ञों ने चेतावनी दोहराई

विशेषज्ञों ने चेतावनी दोहराई है कि यदि सरकार ने इस क्षेत्र में हो रहे अंधाधुंध निर्माण और हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट्स को नहीं रोका तो नतीज भयावह होंगे। गौरतलब है, कि 2013 में उत्तराखंड व हिमाचल में आए सैलाब में चार लोगों की जान गई थी।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story