कोरोना: वित्त मंत्रालय का बड़ा फैसला, जरूरी सामान की आपुर्ति के लिए उठाया ये कदम

पूरे देश में कोरोना का प्रकोप जारी है। ऐसे में अब केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने कोविड-19 से निपटने के लिए जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति के लिए बड़ा फैसला लिया है

नई दिल्ली:  पूरे देश में कोरोना का प्रकोप जारी है। सरकार इससे निपटने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। ऐसे में अब केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने कोविड-19 महामारी से निपटने में मदद के लिए अन्य देशों से मेडिकल और जरूरी सामानों की खरीद और ट्रांसपोर्टेशन की सुविधा प्रदान करने के लिए केंद्र सरकार के विभागों को निर्धारित प्रक्रियाओं में विशेष छूट दी है।

आवश्यक वस्तुओं की पूर्ति के लिए उठाया कदम

वित्त मंत्रालय में व्यय विभाग ने फार्मास्यूटिकल्स विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, वस्त्र मंत्रालय, उपभोक्ता मामलों के विभाग और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को छूट दी, जो केंद्र सरकार के लिए सार्वजनिक खरीद नियमों के तहत आता है।

ये भी पढ़ें-  अवध शिल्पग्राम में लोगों की जांच करते हुए डॉक्टर व पुलिसकर्मी, देखें तस्वीरें

वित्त मंत्रालय ने 27 मार्च को एक अधिसूचना में कहा, नेशनल हेल्थ इमरजेंसी होने के चलते मेडिकल उपकरण और जरूरी सामानों की खरीद में देरी से नागरिकों के जीवन को नुकसान होगा। इसलिए यह आवश्यक आपूर्ति सबसे तेजी से सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाया गया है।

कुछ सामानों की हो रही कमी

ये भी पढ़ें-  तबलीगी जमात की कहानी, कुछ ऐसा है इसका इतिहास

बता दें कि देश में आज लॉकडाउन का सातवां दिन है। अब तक देश भर में कोरोना वायरस के 1310 मामले सामने आ चुके हैं जिसमें से 1177 एक्टिव केस हैं यानी उनका इलाज चल रहा है। कोरोना वायरस के फैलने के चलते दुनियाभर में चुनिंदा आइटम्स की कमी हो गई है। भारत में भी कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने से मेडिकल इक्विपमेंट्स कम पड़ गए हैं। वहीं लॉकडाउन के चलते जरूरी सामानों की सप्लाई होने में दिक्कत आ रही है।

कोरोना के चलते आर्थिक मंदी की कगार पर दुनिया

कोरोना वायरस महामारी के चलते दुनिया आर्थिक मंदी की कगार पर आकर खड़ी हो गई है। इससे दुनियाभर की अर्थव्यवस्था को कई ट्रिलियन डॉलर का नुकसान होने का अनुमान है। संयुक्त राष्ट्र की ताजा ट्रेड रिपोर्ट में ये बातें सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस स्थिति में विकासशील देशों को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें-  मिली बड़ी खुशखबरी: बैंकों का लोन हुआ सस्ता, EMI अब देनी होगी कम

लेकिन चीन और भारत जैसे देश इसमें अपवाद साबित होंगे। यूएनसीटीएडी के सेकेट्री जनरल के मुताबिक, कोरोना वायरस के कारण पैदा हुई आर्थिक गिरावट जारी है। आने वाले दिनों में और तेजी से बढ़ेगी, जिसका अनुमान लगाना मुश्किल है।

दुनिया में जारी कोरोना का कहर

ये भी पढ़ें-  इस बार आम की पैदावार और आपूर्ति पर भी पड़ेगी कोरोना की मार,जानिए कैसे

वहीं अगर कोरोना वायरस के प्रकोप की बात करें तो इस वायरस से पूरी दुनिया में अब तक 7 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। जिनकी संख्या अब 764,866 हो चुकी है। वहीं 30 हजार से ज्यादा मौतें पूरी दुनिया में इस वायरस से हो चुकीं हैं। वहीं अगर बात करें भारत की तो, देश में इस वायरस से संक्रमित होने वों की संख्या 1300 के पार हो गयी है। वहीं इस वायरस से अभी तक 32 लोगों की जान जा चुकी है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App