×

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज AIIMS में भर्ती, नहीं मिला अभी तक कोई किडनी डोनर

By

Published on 23 Nov 2016 6:59 AM GMT

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज AIIMS में भर्ती, नहीं मिला अभी तक कोई किडनी डोनर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की किडनी फेल होने की वजह से उन्हें दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। जहां उनका डायलिसिस किया जा रहा है। डॉक्टर्स की तरफ से किडनी ट्रांसप्लांट के लिए सभी जांच पूरी कर ली गई है। हालांकि अभी तक उन्हें किडनी ट्रांसप्लांट के लिए कोई डोनर नहीं मिला है।

बता दें कि सुषमा स्‍वराज ने बुधवार को खुद ट्वीट कर अपनी किडनी संबंधी बीमारी की जानकारी दी थी। सुषमा स्वराज ने कहा कि उनकी किडनी खराब हो गई है और इस समय वह एम्‍स में डायलिसिस पर हैं। उन्‍होंने ट्वीट में बताया कि किडनी ट्रांसप्‍लांट के लिए टेस्‍ट हो रहे हैं, भगवान कृष्‍ण कृपा करेंगे।

सुषमा को किडनी देने के लिए ये आए आगे

किडनी की बीमारी से जूझ रहीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को अपनी किडनी देने के लिए पड़रिया कस्बे की निधि पांडे और गोंडा के घनश्याम आगे आए हैं। निधी और घनश्याम ने मंत्रालय को पत्र लिखकर इसकी जानकारी दी है। निधि इससे पहले भी सियाचिन के वीर हनुमनथप्पा को भी किडनी देने की पेशकश कर चुकी हैं।

ये भी पढ़ें... सुषमा स्वराज को किडनी देने आगे आईं लखीमपुर की निधि और गोंडा के घनश्याम

बता दें कि विदेश मंत्री को किडनी देने के लिए घनश्याम ने अपनी चिकित्सीय जांच करा ली है। उन्होंने पूरी तरह स्वस्थ होने और स्वेच्छा से किडनी दान करने का पत्र भी मंत्रालय को दिया है। उनका कहना है कि इस समय मौजूदा हालात में ऐसी विदेश मंत्री का देश की सेवा करना राष्ट्र के लिए आवश्यक है।

20 साल से हैं मधुमेह से पीड़ित

-सुषमा स्वराज को सात नवंबर को एम्स में भर्ती कराया गया।

-जहां डॉक्टरों की एक टीम उनका ख्याल रख रही है।

-कार्डियो थोरैकिक सेन्टर के प्रमुख बलराम एरान की निगरानी में सुषमा को अस्पताल के कार्डियो-न्यूरो सेंटर में भर्ती कराया गया है।

-एम्स के सूत्रों के हवाले से आई खबर के मुताबिक मधुमेह की पुरानी बीमारी के कारण उनकी किडनी में दिक्कतें आ रही हैं।

-सुषमा पिछले 20 सालों से मधुमेह से पीड़ित हैं।

Next Story