जबरन कराया गया गैंगस्टर आनंदपाल सिंह का अंतिम संस्कार, 1 घंटे के लिए दी गई कर्फ्यू में ढील

Published by aman Published: July 14, 2017 | 12:56 am
Modified: July 14, 2017 | 5:47 pm
जबरन कराया गया गैंगस्टर आनंदपाल सिंह का अंतिम संस्कार, 1 घंटे के लिए दी कर्फ्यू में ढील

नागौर में कर्फ्यू के बाद पसरा सन्नाटा और आनंदपाल सिंह (इनसेट में)

जयपुर: राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह का आखिरकार अंतिम संस्कार कर दिया गया। पुलिस की कड़ी सुरक्षा के बीच आंनदपाल सिंह का अंतिम संस्कार किया गया। इससे पहले आनंदपाल एनकाउंटर की सीबीआई मांग लेकर राजपूत समाज के लोगों ने जमकर हंगामा किया और बुधवार रात नागौर में कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया। इस घटना में कई पुलिस वाले घायल हो गए थे। जिसके बाद आनंदपाल सिंह के गांव और आस-पास के इलाके में भारी पुलिस बल तैनात है।

ताजा जानकारी के अनुसार, स्थानीय प्रशासन ने आनंदपाल सिंह के परिवार को एक नोटिस देकर कहा था कि अगर उन्होंने उसके शव का अंतिम संस्कार नहीं किया, तो मजबूरी में यह काम पुलिस प्रशासन करेगा।’ बताया जाता है कि इस चेतावनी के बाद गुरुवार (13 जुलाई) को मुक्तिधाम में 20 दिनों बाद गैंगस्टर आनंदपाल सिंह का अंतिम संस्कार किया गया।

ये भी पढ़ें …आनंदपाल सिंह एनकाउंटरः नागौर में भड़के राजपूत, जमकर बवाल, इंटरनेट-बिजली बंद

नहीं मान रहा था बेटा
गुरुवार शाम को जब पुलिस वालों ने घरवालों से अंतिम संस्कार करने को कहा तो आनंदपाल सिंह का बेटा नहीं माना। आखिरकार पुलिस जबरन उसे साथ ले गई। इस दौरान पुलिस वाले गांव के पांच अन्य लोगों को भी साथ ले गए जो अंतिम संस्कार के वक़्त वहां मौजूद रहे।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर…

अंतिम संस्कार के लिए सुबह से जुटे थे मनाने में
राजस्थान के जेल डीजी और राजपूत अधिकारी अजीत सिंह परिवार के सदस्यों को अंतिम संस्कार के लिए गुरुवार सुबह से मनाने में जुटे थे। दिन में ढाई बजे के करीब पुलिस ने आनंदपाल सिंह के घर पर मानवाधिकार आयोग का नोटिस चस्पा किया। इस नोटिस में साफ़ कहा गया था कि आप 24 घंटे के अंदर मृत शरीर का दाह संस्कार कीजिए। काफी मान-मन्नौवल के बाद दाह संस्कार कर दिया गया।

दाह संस्कार से पूर्व राजस्थान पुलिस की तरफ से गांव में एक घंटे के लिए कर्फ्यू में ढील दी गई थी। दाह संस्कार के लिए एक जगह एकत्रित होने के लिए कहा गया था।

… तो इसलिए मामले को गुपचुप तरीके से निपटाया
बताया जाता है कि आनंदपाल सिंह की मां इस बात पर अड़ी थी कि अगर बेटे के एनकाउंटर की सीबीआई जांच नहीं कराई गई और जबरन दाह संस्कार किया गया तो बेटे के साथ वो भी जलेंगी। इस वजह से पुलिस ने पूरे मामले को गुपचुप तरीके से अंजाम दिया।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App