गरीब हो तो घर में रहो, AC में नहीं कर पाओगे सफर

जो लोग सस्ते में उठाते थे गरीब रथ में AC सफर का लुत्फ अब पड़ेगा महंगा। 2006 में गरीबों के लिए तत्कालीन रेल मंत्री ने गरीब रथ एक्सप्रेस की शुरुआत की थी। यह ट्रेन गरीबों के लिए AC में सफर करने का सपना साकार करने के लिए चलाई गयी थी। लेकिन अब मौजूदा सरकार गरीब रथ ट्रेनों को मेल एक्सप्रेस में बदल रही है।

Published by Roshni Khan Published: July 18, 2019 | 11:59 am
Modified: July 18, 2019 | 12:50 pm

नई दिल्ली: जो लोग सस्ते में उठाते थे गरीब रथ में AC सफर का लुत्फ अब पड़ेगा महंगा। 2006 में गरीबों के लिए तत्कालीन रेल मंत्री ने गरीब रथ एक्सप्रेस की शुरुआत की थी। यह ट्रेन गरीबों के लिए AC में सफर करने का सपना साकार करने के लिए चलाई गयी थी। लेकिन अब मौजूदा सरकार गरीब रथ ट्रेनों को मेल एक्सप्रेस में बदल रही है। यानी गरीब रथ ट्रेनें जल्द ही बंद होने वाली हैं। रेलवे का कहना है की अब गरीब रथ की बोगियां बननी बंद हो गयीं हैं। जो बोगियां पटरियों पर दौड़ रही है वो 14 साल पुरानी है।

ये भी देखें:बिहार और असम में नहीं थम रहा मौत का सिलसिला, अब तक 94 लोगों की हुई मौत

गरीब रथ की बोगियां अब मेल एक्सप्रेस में तब्दील कर दी जाएंगी जिसकी शुरुआत कर दी गयी है। गरीब रथ को मेल या एक्सप्रेस में बदलते ही ट्रेन का किराये में इज़ाफ़ा होगा। जिससे गरीबों को अब AC में सफर करना पड़ेगा महंगा।

हम आपको बता दें-

गरीब रथ में 12 बोगियां होती हैं और सभी 3AC कोच होते हैं। इन ट्रेनों को मेल ट्रेनों में बदलने की योजना के तहत कोचों की संख्या 12 से बढ़ाकर 16 की जा सकती है। इन 16 बोगियों में थर्ड एसी, सेकेण्ड एसी, स्लीपर और जनरल कोच होंगे।

गरीब रथ अधिकतम 140 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ सकती है। इस ट्रेन में सभी बोगियां 3AC हैं जिसका किराया 3AC के मुकाबले 40% फीसदी कम है।

ये भी देखें:बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए सामने आये प्रियंका व अक्षय, दी इतने करोड़ की मदद

5 अक्टूबर 2006 को बिहार के सहरसा से पंजाब के अमृतसर के बीच चलाई गयी थी। यह सबसे पहली गरीब रथ ट्रेन सहरसा-अमृतसर एक्सप्रेस थी।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App